Pithoragarh News

देवभूमि के बेटे को बधाई… ऋषभ पंत के शतक से झूमा पिथौरागढ़ का पाली गांव


Source: Facebook

हल्द्वानी: भारतीय क्रिकेट का चमकता हुआ सितारा धीरे धीरे पूरे क्रिकेट के अंतरिक्ष में अपनी चमक बिखेर रहा है। क्रिकेट जगत के महापुरुष उसकी तारीफ कर रहे हैं। उत्तराखंड का यह लाल ज़मीन से जुड़ा होकर भी आसमान में खूब ऊंचाई पर उड़ रहा है।

आज हम बात पिथौरागढ़ के ऋषभ पंत की कर रहे हैं। जी हां, ऋषभ पंत मूल रूप से पिथौरागढ़ गंगोलीहाट के पाली गांव के हैं। यहां पर उनका एक पैतृक घर भी है। हाल ही में खत्म हुए अहमदाबाद टेस्ट मैच की पहली पारी में ऋषभ पंत की 101 रनों की पारी से पाली गांव में बेहद खुशी का माहौल है। एक बार फिर से यह गांव सुर्खियों में है।

यह भी पढ़े: उत्तराखंड: शराब पीने को मना किया तो BSF के पूर्व जवान को चाकू से गोद डाला, हुई मौत

यह भी पढ़े: क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड पर लगे करप्शन के आरोप, खेल मंत्री ने दिए जांच के आदेश

भारतीय क्रिकेट का स्पाइडरमैन कहे जाने वाले ऋषभ पंत ने अपनी प्रतिभा का परिचय देना काफी पहले ही शुरू कर दिया था। अंडर-19 विश्व कप, घरेलू क्रिकेट, आईपीएल और अब क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप यानी टेस्ट क्रिकेट में ऋषभ पंत अपनी छाप छोड़ रहे हैं। बहरहाल रुड़की हरिद्वार निवासी ऋषभ पंत के तार पिथौरागढ़ से भी जुड़े हैं।

यह भी पढ़ें 👉  GGIC समेत हल्द्वानी के 23 स्कूलों में होगी कोरोना जांच, डीएम बोले बच्चों की सुरक्षा जरूरी

ऋषभ पंत के दादा चंद्र बल्लभ पंत गंगोलीहाट के पाली गांव में रहते थे। करीब 30 साल पहले वह परिवार के साथ पाली गांव से रुड़की आ गए थे। जिसके बाद परिवार रुड़की में ही बस गया। ऋषभ पंत के पिता स्व. राजेंद्र पंत रुड़की में एक निजी स्कूल चलाते थे।

यह भी पढ़े: CBSE ने बदल दी है 10वीं और 12वीं की DATESHEET, एक क्लिक पर जानें

यह भी पढ़े: हल्द्वानी कलावती चौराहे पर फायरिंग,घायल युवक को बेस हॉस्पिटल में भर्ती किया गया

ऋषभ पंत के के दादा चंद्र बल्लभ पंत के भाई लक्ष्मी दत्त पंत, लोकमणि पंत और बसदेव पंत का परिवार आज भी पाली में ही रहता है। पाली गांव के रहने वाले जीवन चंद्र पंत बताते हैं कि ऋषभ के परिजनों का पाली गांव से खासा लगाव है। पाली के आमडाली स्थित पुराने मकान में ऋषभ के बुज़ुर्गों की यादें शेष हैं।

यह भी पढ़ें 👉  खैराना गांव के किसान सुरेश राणा का शानदार प्रयास, पीएम मोदी को भी पसंद आई खेती की तकनीक

ऋषभ पंत ने इंग्लैंड के खिलाफ अहमदाबाद में चौथे टेस्ट मैच में भारत की लड़खड़ाती पारी को शतकीय पारी से संभाला है। दूसरे दिन बल्लेबाज़ी करने उतरे ऋषभ ने 101 रनों की पारी खेलकर अपने टेस्ट करियर का तीसरा शतक जमाया है। बता दें कि यह भारत में उनका पहला अंतर्राष्ट्रीय शतक है। इस शतक के बाद से ही पाली गांव में काफी जश्न का माहौल है। ऋषभ पंत को इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब भी मिला है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:दूसरी डोज के लिए गंभीर नहीं हैं लोग,ऐसे तो छोटे बच्चों के लिए बढ़ेगा खतरा

आपका बता दें कि ऋषभ से पहले मनीष पांडे वह खिलाड़ी थे जो पहाड़ के छोटे से गांव से निकलकर इतने प्रसिद्ध हुए। मनीष पांडे बागेश्वर के रहने वाले हैं। इसके अलावा अंडर-19 विश्व कप 2018 में शानदार प्रदर्शन करने वाले कमलेश नागरकोटी भी बागेश्वर के ही रहने वाले हैं। कुल मिलाकर पहाड़ के बेटे पहाड़ का नाम रौशन कर रहे हैं।

यह भी पढ़े: शहरों से जुड़ेंगे उत्तराखंड के 120 गांव, सरकार ने फ्लोर पर उतारा मेगा प्लान

यह भी पढ़े: PUB-G पर हुआ प्यार, प्रेमी से मिलने 1700 किमी का सफर कर रुड़की पहुंच गई युवती

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top