Uttarakhand News

फिलहाल मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत NOTOUT, प्रेस वर्ता में इस्तीफा नहीं,गिनाई उपलब्धियां


देहरादून: उत्तराखंड में अचानक एक फिर भौचाल आ गया है। चिंतन शिविर के बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को इस्तीफा देना पड़ेगा ऐसा सोचा नहीं था। तीरथ सिंह रावत सांसद हैं। उन्हें मुख्यमंत्री बनें रहने के लिए 10 सिंतबर से पहले विधानसभा का सदस्य बनना था। ऐसे में उन्हें उपचुनाव लड़ना पड़ता। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए चुनाव आयोग चुनाव कराने के पक्ष में नहीं था। सीएम पार्टी और चुनाव आयोग के बीच किसी प्रकार की तनातनी नहीं चाहते थे ताकि विधानसभा चुनाव से पहले जनता के बीच पार्टी की छवि खराब नहीं हो। कुछ देर पहले प्रेस वर्ता पर सीएम रावत पहुंचे लेकिन उन्होंने इस्तीफे को लेकर कुछ नहीं कहा।

सीएम तीरथ सिंह रावत ने कुछ देर पहले प्रेस वर्ता शुरू की है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से आर्थिक नुकसान झेलने वाले लोगों के लिए सरकार राहत पैकेज प्लान कर रही है। उन्होंने कहा कि हर विभाग में हर विभाग में भर्ती करने वाले हैं। राज्यकीय विभागों में सीधे भर्ती की जाएगी। 20 हजार से ज्यादा भर्ती सरकार करने की कोशिश करेगी। इसमें शिक्षा 5000, हेल्थ 2018, ऊर्जा 2021, पुलिस 1530 पद, शहरी विभाग 872, उच्च शिक्षा 698,पशु पालन 300, लोक निर्माण 312 पद, उद्यान 314 पद, पेयजल 100, जनजाति कल्याण 158 पद, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति 825,विद्यालय शिक्षा में 5944 पद, वन विभाग में 2507 पद समेत कई विभागों में भर्ती होगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में पहली बार...अब पहाड़ी मार्गों पर दौड़ेंगी चार पहियों वाली खास बसें

कक्षा 11 और 12 के बच्चों को लेपटॉप व टेबलेट दिए जाएंगे। उन्होंने प्रेस वर्ता में अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाई। उन्होंने कहा कि घोषणा वह पहले ही कर देते लेकिन वह दिल्ली दौरे पर चले गए। लेकिन अपनी उपलब्धियां बताने के लिए रात 10 बजे प्रेस वर्ता का चयन, बड़े परिवर्तन के संकेत दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  छोटे वाहनों के लिए जल्द शुरू होगा गौलापुल, सीएम धामी एक बार फिर निरीक्षण करने पहुंचे

कैसे शुरू की प्रेस वर्ता

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पत्रकार मित्रों का धन्यवाद करते हुए अपनी बात कही कि कोरोनावायरस से हम अभी काफी निजात पाए है लेकिन इस बीच पर्यटन से जुड़े और ट्रांसपोर्टरों को काफी दिक्कतों और परेशानी सामने आई है ऐसे में बिजली पानी और उनकी समस्याएं रही है तो उनको लेकर सरकार ने जो सुविधाएं माफ की जा सकती है वह माफ की है। इसके अलावा दो हजार करोड़ की राहत सहायता भी सरकार करने जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  RTI में खुलासा, विधायक निधि खर्च करने में नंबर वन हैं संजीव आर्य

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top