Champawat News

मां पूर्णागिरी धाम- मंदिर के कपाट 24 जून से रात को रहेंगे बंद.. टाइमिंग पर डाले नजर

Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: मॉनसून उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में मुसीबत लाता है और इससे बचने के प्लान को फ्लोर पर उतारे जाने लगा है। एक जरूरी सूचना मां पूर्णागिरि के दर्शन करने वाले भक्तों के लिए है। श्रद्धालुओं को बरसात में असुविधा और असुरक्षा से बचाने के लिए धाम में 24 जून शाम सात बजे से सुबह पांच बजे तक देवी के दर्शन करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। श्रद्धालूओं सुबह पांच से शाम सात बजे तक मां के दर्शन कर पाएंगे। पूर्णागिरि मंदिर समिति और पुजारियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया। समिति के अध्यक्ष पंडित किशन तिवारी ने इसी पुष्टि की है।

रात में रौशनी को लेकर है दिक्कत

उन्होंने कहा कि सरकारी मेला समाप्त होने के बाद मेला क्षेत्र में कई जगह रोशनी नहीं है और रात को श्रद्धालूओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सुरक्षा के लिहाज से फैसला लिया गया है। उन्होंने लोगों से अपील भी की और कहा की धाम में नियमों का पालन करें। मांस-मदिरा का किसी भी रूप में सेवन नहीं होगा। मेला क्षेत्र में इस नियम को तोड़ने वाले पर कार्रवाई की जाएगी।बैठक में नीलाधर तिवारी, पीतांबर तिवारी, भुवन पांडेय, माधव दत्त, प्रकाश पांडेय, जमुनादत्त पांडेय, नेत्रबल्लभ तिवारी, नरेश तिवारी, दयानंद पांडेय आदि मौजूद थे। 

टैक्सी सेवा को लेकर अपडेट

पूर्णागिरी आने वाले भक्तों को टैक्सियां टनकपुर से सीधे भैरव मंदिर तक लाएगी। इससे पहले 20 जून तक वाहन टनकपुर से ठुलीगाड़ तक आ रहे थे। व्यवस्था को बनाए रखने के लिए ठुलीगाड़ से भैरव मंदिर तक अलग से शटल सेवा थी। इस व्यवस्था में बदलाव किया गया है।

Join-WhatsApp-Group
Ad
To Top