Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी के रक्षित डालाकोटी का एनसीए कैंप में चयन, कोच बोले… खुद की याद दिलाता है ये युवा बल्लेबाज

Uttarakhand Cricket News: हल्द्वानी शहर के कई युवाओं ने क्रिकेट के मैदान में कमाल किया है। घरेलू क्रिकेट के अलावा भी खिलाड़ियों ने अन्य क्रिकेट लीग में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। वहीं हल्द्वानी निवासी आर्यन जुयाल भारतीय अंडर-19 टीम के कप्तान भी रहें हैं। घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने का इनाम मिलता जरूर है। इस बार युवा रक्षित डालाकोटी को इनाम मिला है और उन्होंने एनसीए कैंप में जगह बनाई है।

coach dan singh kanyal with rakshit dalakoti

विजय मर्चेंट ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन करने वाले रक्षित डालाकोटी (16वर्षीय) का चयन जेडसीए- एनसीए कैंप के लिए हुआ है। रक्षित ने अंडर-16 टूर्नामेंट में 300 रन बनाए थे। उनके बल्ले से जम्मू-कश्मीर के खिलाफ शानदार 86 रन की पारी निकली थी तो वहीं तमिलनाडु के खिलाफ उन्होंने एक पारी में 5 विकेट भी झटके। रक्षित डालाकोटी के हरफनमौला प्रदर्शन ने उन्हें एनसीए कैंप में जगह दिलाई है। वह सूरत गुजरात के लिए रवाना होंगे।

पूत के पांव पालने में दिख जाते हैं। ये मुहावरा रक्षित डालाकोटी के लिए बिल्कुल सही बैठता है। रक्षित डालाकोटी शहर के उन खिलाड़ियों में हैं जिन्होंने छोटी उम्र में क्रिकेट बैट पकड़ लिया था और बचपन से ही तमाम क्रिकेट प्रतियोगिताओं में अपनी छाप छोड़ी है। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने शायद ही कोई प्रतियोगिता होगी जहां अपने खेल से दिल नही जीता हो। रक्षित डालाकोटी ने साल 2012 में क्रिकेट के मैदान पर कदम रखा था और उनके कोच दान सिंह कन्याल बताते हैं कि पहले दिन से ही इस लड़के ने अपने खेल को प्राथमिकता दी है। उन्होंने कहा कि गब्बर ने 5-6 साल की छोटी उम्र से ही क्रिकेट ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था।

rakshit dalakoti, coach dan singh kanyal. dikshanshu negi and saurabh rawat

कोच ने कहा कि रक्षित छोटी उम्र में ही परिपक्व बनने लगा और यही वजह है कि उसे कामयाबी मिल रही है। कोच दान सिंह कन्याल ने कहा कि वैसे तो क्रिकेटर के जीवन में फॉर्म का आना जाना लगा रहता है लेकिन जो खिलाड़ी अपना ध्यान बेसिक से नहीं हटाता है वही आगे बढ़ता है। रक्षित अपने गेम को अच्छे से समझता है, यही उसकी ताकत भी है। छोटी उम्र में इस लड़के ने अपने खेल को बारीकी से समझा है और मुझे उम्मीद है कि इसी तरह से वह आगे बढ़ेगा।

कोच दान सिंह कन्याल खुद एक बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं। उन्होंने कहा कि रक्षित को क्रिकेट के मैदान में मेहनत करता देख उन्हें अपने पुराने दिन याद आ जाते हैं। बता दें कि बीसीसीआई लेवल बी कोच दान सिंह कन्याल हल्द्वानी में डीके स्पोर्ट्स एकेडमी/क्लब में ट्रेनिंग दे रहे हैं। वह रणजी प्लेयर आर्यन जुयाल, दीक्षांशु नेगी, सौरव रावत के भी कोच हैं। जबकि उनसे ट्रेनिंग ले चुके कई युवा खिलाड़ी बीसीसीआई बोर्ड ट्रॉफी में भी शिरकत कर चुके हैं

To Top
Ad