Almora News

कोरोना काल में अल्मोड़ा लौटे प्रवासियों को रोजगार देगा RBI केंद्र, धामी सरकार ने की खास तैयारी


कोरोना काल में अल्मोड़ा लौटे प्रवासियों को रोजगार देगा RBI केंद्र, धामी सरकार ने की खास तैयारी
Ad
Ad
Ad
Ad

अल्मोड़ा: कोविड लॉकडाउन के दौरान उत्तराखंड लौटे तीन लाख से अधिक प्रवासियों को आत्मनिर्भर बनने का मौका मिलने जा रहा है। अब सरकार के रूरल बिजनेस इंक्यूबेटर (Rural business incubator RBI) मददगार बनेंगे। राज्य सरकार दो आरबीआई केंद्रों से इसकी शुरुआत करने जा रही है। इसका मकसद प्रवासियों के लिए बेहतर अवसर पैदा करना है ताकि उनके दोबारा पलायन करने के हालात न बनें।

बता दें कि कोरोना काल से पहले कई गांवों के लोग दिल्ली जैसे बड़े शहरों में रहकर अपना जीवन गुजारा कर रहे थे। वे वहीं से अपने परिवारों की देखभाल के लिए पैसे भेजते थे। लेकिन कोरोना महामारी (Corona pandemic) ने ना सिर्फ उनसे उनकी आय का स्त्रोत खत्म किया बल्कि हर परिवार का पूरी तरह बैकफुट पर धकेल दिया।

इसके बाद भारी संख्या में प्रवासियों ने देवभूमि का रुख करना शुरू किया। कई प्रवासियों ने आत्मनिर्भर (self employed) बनने के लिए काम शुरू किया। मगर कई सारे अब भी खाली बैठे हैं। ऐसे में अब राज्य सरकार दो आरबीआई केंद्रों (RBI centres) की मदद से इन परिवारों की मदद करने को तत्पर है। सरकार द्वारा रोजगार देने के लिए अल्मोड़ा में भी एक आरबीआई केंद्र बनाया है।

सरकार के ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत पौड़ी गढ़वाल में कोटद्वार (kotdwar) और कुमाऊं में अल्मोड़ा (Almora) जिले के हवालबाग में आरबीआई केंद्र स्थापित किए गए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जल्द ही इनका शुभारंभ करने जा रहे हैं। इन केंद्रों का मकसद प्रवासियों को स्वरोजगार के प्रति प्रेरित करते हुए उन्हें बाजार उपलब्ध कराना है।

राज्य सरकार (Uttarakhand government) की ओर से स्थापित होने वाले दो आरबीआई प्रवासियों में उद्यमी सोच विकसित करने का काम करेंगे। ताकि ग्रामीण परिवेश में रहकर वह बेरोजगार युवाओं के रोजगार की राह भी बना सकें। इसके साथ ही अगर किसी प्रवासी के पास कोई बिजनेस आइडिया है तो यह सेंटर उसे विकसित करने में मदद करेगा। उस बिजनेस को कैसे आगे बढ़ाया जा सकता है, इसकी राह दिखाएगा। अगर कोई बिजनेस करना चाह रहा है तो उसे पूरी बिजनेस प्लानिंग की सुविधा दी जाएगी।

Join-WhatsApp-Group
To Top