Dehradun News

उत्तराखंड आने वाले पर्यटक 15 सितंबर से उठाएंगे रिवर राफ्टिंग का लुत्फ, देखें रेट लिस्ट

उत्तराखंड आने वाले पर्यटक 15 सितंबर से उठाएंगे रिवर राफ्टिंग का लुत्फ, देखें रेट लिस्ट

ऋषिकेश: पर्यटक आएं और रिवर राफ्टिंग का लुत्फ ना उठाएं, बात हजम नहीं होती। लेकिन इस कोरोना नामक बीमारी ने तो पर्यटकों के भी चेहरे उदास किए और राफ्टिंग कारोबार से जुड़े परिवारों के लिए भी मुसीबत खड़ी कर दी। चार महीने से गंगा में राफ्टिंग पूरी तरह से बंद है। मगर 15 सितंबर से सब बदलने वाला है।

पहले अप्रैल की तरफ लिए चलते हैं। आपको याद होगा कि मार्च के अंतिम हफ्ते से कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने प्रदेश भऱ में हल्ला बोल दिया था। इसी कारणवश राफ्टिंग भी एक अप्रैल से बंद कर दी गई। इसके बाद जब संक्रमण में कमी आई तो बारिश का मौसम शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य का निधन, सीएम धामी ने किया ट्वीट

यह भी पढ़ें: मलवा आने से एक बार फिर बंद हुआ वीरभट्टी पुल, नैनीताल होते हुए यात्रा पूरी करनी पड़ेगी

लाजमी है कि जून, जुलाई और अगस्त में मॉनसून के कारण गंगा का जलस्तर बढ़ जाता है। जिसकी वजह से गंगा में राफ्टिंग करना वर्जित कर दिया जाता है। इन्हीं सब कारणों से बीते करीब चार महीनों से ऋषिकेश में गंगाघाटी के कौडियाला-मुनिकीरेती इको जोन में राफ्टिंग का कारोबार चौपट हो गया है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग न्यूज: उत्तराखंड कैबिनेट बैठक खत्म, 24 प्रस्तावों पर लगी मुहर

नुकसान की हद तो तब पता लगती है जब मालूम चलता है कि कारोबार से करीब 20 हजार से अधिक लोगों का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार जुड़ा है। एक माह में 50 लाख से अधिक का कारोबार होता है। मगर पिछले चार महीनों ने सब उलट पलट कर दिया।

यह भी पढ़ें: ट्विटर पर एक व्यक्ति ने सोनू सूद से मांगे एक करोड़ रुपए, एक्टर ने कहा बस इतने ही…

यह भी पढ़ें: रुद्रपुर पहुंचे टोक्यो के हीरो सिमरनजीत सिंह, ओलंपिक पदक जीतने के लम्हे को किया याद

हर साल की तरह अब इस बार सितंबर माह से राफ्टिंग सत्र शुरू होने की उम्मीद थी। जिस पर अब मुहर भी लगती नजर आ रही है। इसके लिए राफ्टिंग कारोबारियों ने तैयारियां शुरू कर दी है। गंगा नदी राफ्टिंग रोटेशन समिति दिनेश भट्ट ने बताया कि कोविड के कारण एक अप्रैल से राफ्टिंग कारोबार बंद है।

यह भी पढ़ें 👉  पोस्ट ऑफिस में बंपर नौकरियां, आवेदन की तिथि बढ़ाई गई

हालांकि पहले पर्यटन विभाग की तकनीकी टीम गंगा के जलस्तर का निरीक्षण करने आएगी। पूरी जांच के बाद ही पर्यटन विभाग की ओर से राफ्टिंग संचालन की अनुमति दी जाती है। ऐसे में उम्मीद है कि 15 सितंबर तक राफ्टिंग शुरू हो जाएगी। अगर ऐसा होता है तो कारोबारियों के साथ पर्यटकों के लिए भी अच्छा होगा। गौरतलब है कि ऋषिकेश में 280 राफ्टिंग कंपनियां हैं, जिनकी 575 राफ्टों का संचालन होता है।

राफ्टिंग के रेट

दूरी      –       कहां से कहां तक               –                रेट प्रति व्यक्ति

35 – किमी कौडियाला से रामझूला तक              –           2500 रुपये

20 – किमी कौडियाला से शिवपुरी तक           –              1500 रुपये

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में हेली सेवा का किराया 42 से 50 प्रतिशत कम हुआ

10 – किमी मैरीन ड्राइव से शिवपुरी तक           –            600 रुपये

25 – किमी मैरीन ड्राइव से रामझूला तक          –            1500 रुपये

15 – किमी शिवपुरी से रामझूला तक           –                1000 रुपये

9 – किमी ब्रह्मपुरी से रामझूला तक             –                 600 रुपये

9 – किमी क्लब हाउस से रामझूला तक          –              600 रुपये

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी की छह सड़कें होंगी टनाटन,जारी हुआ आठ करोड़ रुपए का बजट

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी जेल में बंद कैदियों को मिलेंगे स्मार्ट कार्ड, हर महीने कर सकेंगे हजारों रुपए की शॉपिंग

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top