Dehradun News

उत्तराखंड की बेटी स्नेह राणा की पांच साल बाद हुई टीम इंडिया में वापसी,बयां की संघर्ष की कहानी


देहरादून: क्रिकेटर हमारे देश में धर्म की तरह पूजा जाता है। हर घर के बच्चे क्रिकेटर बनने का सपना देखते हैं। अब तो बेटियां भी क्रिकेट के मैदान पर देश का नाम रोशन कर रही है। भारतीय टीम में जगह बनाना बिल्कुल भी आसान नहीं है वो भी तब जब आप पांच सालों से टीम से बाहर रहे हो। परिश्रम और दृढ़ संकल्प से इसे पूरा कर सकते हैं। देहरादून निवासी स्नेह राणा (27 वर्षीय) ने 5 साल बाद भारतीय टीम में वापसी की है। उन्हे चयनकर्ताओं ने इंग्लैंड दौरे के लिए टीम का हिस्सा बनाया है। भारतीय टीम को एक टेस्ट, तीन वनडे और तीन टी-20 मैचों की सीरीज खेलनी है। शुक्रवार देर शाम टीम का ऐलान हुआ है। स्नेह के अलावा अल्मोड़ा की एकता बिष्ट भी टीम का हिस्सा है।

स्नेह राणा ने साल 2014 में किया था डेब्यू

देहरादून निवासी स्वर्गीय भगवान सिंह की बेटी स्नेह राणा ने करीब 10 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। पहले वह देहरादून में अभ्यास करती थी। उस वक्त राज्य को बीसीसीआई से मान्यता प्राप्त नहीं थी लेकिन उन्होंने टीम इंडिया की नीली जर्सी पहनने के सपने को साकार करने का फैसला कर लिया था। इसके बाद वह दूसरे राज्य गई, जहां पंजाब ने उन्हें मौका दिया।

घरेलू क्रिकेट में अपने ऑलराउंड प्रदर्शन के बल पर उन्होंने साल 2014 में श्रीलंका के खिलाफ डेब्यू किया। उन्होंने भारत के लिए 7 वनडे और 5 टी-20 खेले। साल 2016 में वह ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भी टीम का हिस्सा रही थी। इस बीच वो चोटिल हो गई। करीब एक साल बाद वह चोट से उभरी और फिर से मैदान पर उतरी।

भारतीय टीम में चयन के बाद उन्होंने हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम से खास बातचीत में बताया कि चोट से उभरना किसी के लिए भी आसान नहीं रहता है। कोई भी खिलाड़ी मैदान से बाहर नहीं रहना चाहता है। इस दौरान उनकी मां बिमला राणा ने उन्हें प्रोत्साहित किया। स्नेह ने बताया कि वापसी तो उन्हे करनी थी ही और वह अपने लक्ष्य की तरफ केंद्रित थी। उन्हें रेलवे ने अपनी टीम में खेलने का न्योता दिया।

यह भी पढ़ें 👉  आप पर गर्व है मिताली... क्रिकेट करियर में पूरे किए 20 हजार रन

साल 2021 में रेलवे ने सीनियर वनडे टूर्नामेंट को अपने नाम किया। स्नेह का प्रदर्शन इस टूर्नामेंट में शानदार रहा था। उन्होंने 123 के स्ट्राइक रेट के साथ 160 रन बनाए और 18 विकेट भी अपने नाम किए। बतौर गेंदबाज वह सबसे ज्यादा विकेट लेने वालों की लिस्ट पर पहले स्थान पर रही। इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि भारतीय टीम में स्नेह की वापसी तय है। सबसे खासबात यह रही कि उन्होंने कप्तानी की जिम्मेदारी को बखूबी निभाया। वह मिताली राज की अनुपस्थिति में टीम की कप्तान भी रही थी।

यह भी पढ़ें 👉  आप पर गर्व है मिताली... क्रिकेट करियर में पूरे किए 20 हजार रन

वापसी से खुश हैं स्नेह राणा

स्नेह राणा ने कहा कि इंग्लैंड दौरे के लिए वह उत्साहित है। दोबारा टीम के साथ जुड़ा एक सुखद अनुभव होता है। लंबे अरसे बाद टेस्ट क्रिकेट हो रहा है और ये भविष्य के लिए अच्छा है। उन्होंने कहा कि वह अपने गेम को इंजाय करती है और जो भी जिम्मेदारी टीम से मिलेगी उसे निभाएंगी। उत्तराखंड क्रिकेट को लेकर उन्होंने कहा कि मान्यता मिलने के बाद सब कुछ बदल गया है। बच्चों के पास अच्छे कोच हैं। संघ की ओर से उन्हें सुविधाएं मिल रही है। उत्तराखंड की टीम के पास टैलेंट है और उन्होंने कम वक्त में अपनी पहचान बनाई है जो खुशी देता है। उन्होंने युवाओं के लिए कहा कि जो भी मौके उन्हें मिल रहे हैं उसे भुनाएं और आगे बढ़ते रहें।

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top