Uttarakhand News

दीपावली से पहले उत्तराखंड के पुलिसकर्मियों को गिफ्ट, CM धामी ने किया 4600 ग्रेड पे का ऐलान



देहरादून: राज्य सरकार ने पुलिसकर्मियों को तोहफा दिया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड पुलिस के 2001 बैच के पुलिसकर्मियों के लिए 4600 ग्रेड पे लागू करने की बड़ी घोषणा कर दी है। गौरतलब है कि पुलिसकर्मियों की एक अरसे से इसे लागू करने की मांग थी। ऐसे में दीपावली से ठीक पहले सीएम धामी ने पुलिसकर्मियों को गिफ्ट दिया है।

Ad

बता दें कि उत्तराखंड के पुलिसकर्मी बीते काफी समय से 4600 ग्रेड पे लागू करने के लिए कह रहे थे। मगर सरकार द्वारा अभी तक इस बाबत कोई कदम नहीं उठाया गया था। पिछले महीने ही पुलिसकर्मियों के परिजनों ने देहरादून में काफी बड़ा विरोध प्रदर्शन किया था। जिसके स्तर को देखते हुए डीजीपी अशोक कुमार ने मौके पर पहुंचकर अच्छी खबर का भरोसा दिलाया था।

यह भी पढ़ें 👉  डीडीहाट नहीं तो क्या रामनगर से ही चुनाव लड़ेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत...?

तमाम मांगों को देखते हुए बीते गुरुवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 4600 ग्रेड पे लागू करने का ऐलान कर ही दिया। मौका इसलिए भी खास था क्योंकि उक्त दिन पुलिस स्मृति दिवस मनाया जा रहा था। इसी मौके पर सीएम धामी पुलिसकर्मियों के बीच पहुंचे थे। मुख्यमंत्री धामी ने 2001 बैच के पुलिसकर्मियों के लिए 4600 ग्रेड पे की घोषणा की।

यह भी पढ़ें 👉  पार्टी बदली, चेहरे वही...नैनीताल में फिर आमने सामने होंगे संजीव आर्य और सरिता आर्य

गौरतलब है कि पुष्कर सिंह धामी ने सीएम बनने के तुरंत बाद कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के नेतृत्व में कमेटी गठित की थी। जिसकी रिपोर्ट पर ही फैसला टिका था। अब गुरुवार को सीएम धामी ने फैसला पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों के हक में कर दिया। फैसले के अनुसार 20 साल की सेवा अवधि पूरी करने वाले सिपाहियों को 4600 ग्रेड पे दिया जाएगा। इसके अलावा सीएम ने शहीदों को याद करते हुए कहा कि शहीद पुलिस कर्मियों के नाम पर सड़क और स्कूलों के नाम होंगे।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी सफलता...नैनीताल पुलिस ने पकड़ी कॉर्बेट में सप्लाई होने वाली 60 लाख की हेरोइन व स्मैक

आपको बता दें कि सन 2000 में उत्तराखंड बनने के बाद सिपाहियों की पहली भर्ती 2001 में हुई। इस भर्ती के दौरान ग्रेड पे 2000 था और पदोन्नति का स्लैब 8वें वर्ष, 12वें वर्ष और 22वें वर्ष में प्रावधान रखा गया। पहले बैच के पदोन्नति तक पहुंचने से पहले ही नियम बदल गए। प्रमोशन का स्लैब 10 वर्ष, 20 वर्ष और 30 वर्ष कर दिया गया। पकिजनों ने इसे पुलिसकर्मियों के साथ अन्याय बताते हुए विरोध शुरू कर दिया था।

To Top