Uttarakhand News

अब लौटेंगे पुराने दिन, उत्तराखंड में मिट्टी से बने गिलासों में चाय देने की हुई शुरुआत


Ad
Ad

देहरादून: एक बार फिर पुराने दिन वापस आने वाले हैं। अब उत्तराखंड में भी मिट्टी के गिलासों में लोगों को चाय दी जाएगी। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने खुद मिट्टी के कुल्हड़ में चाय पी कर ऐसे निर्देश दिए हैं। शुक्रवार को सचिवालय में आयोजित बैठक में सीएम धामी ने कुम्हारी कला को बढ़ावा देने पर चर्चा की। गौरतलब है कि इस फैसले से कुम्हार समुदाय को आर्थिक रूप से काफी फायदा होगा।

Ad
Ad

भारत सरकार की कुम्हार सशक्तिकरण योजना को आगे बढ़ाते हुए उत्तराखंड में भी कुम्हारी कला को पुनर्जीवित करने की शुरुआत हो गई है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कुम्हारों के लिए ऐसी मिट्टी वाली भूमि का चिन्हीकरण किया जाए। जिससे उन्हें उन्नत किस्म के मिट्टी के उपकरण बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में मिट्टी उपलब्ध हो सके।

सीएम धामी ने कहा कि चिन्हित भूमि से कुम्हारों को आवश्यकतानुसार एवं मानकों के हिसाब से निःशुल्क मिट्टी उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी की जाए। साथ ही मुख्यमंत्री आवास एवं सचिवालय में मिट्टी से बने गिलासों में चाय दी जाए। पूरे प्रदेश में इसे लागू किया जाए। इस दौरान सीएम धामी एवं अधिकारियों ने खुद मिट्टी के गिलासों में चाय पी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के लोगों के लिए खुशखबरी, बिजली की दरें नहीं बढ़ा पाएगा UPCL

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्हारी हस्तकला के लिए एक पोर्टल बनाने के भी निर्देश दिए। लोगों से सुझाव लिए जाएं और उनकी मदद की जाए। इस क्षेत्र से जुड़े लोगों के उचित प्रशिक्षण की व्यवस्था भी होनी चाहिए। इसके अलावा कुम्हार हस्तकला को सीएम स्वरोजगार योजना में भी जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री का कहना है क दीपावली के पर्व पर कुम्हारों द्वारा निर्मित दिये एवं अन्य उत्पादों को बढ़ावा दिया जाए।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top