Uttarakhand News

DGP अशोक कुमार के निर्देश,CPU केवल जुर्माना वसूलने के लिए नहीं करें चैकिंग


उत्तराखंड के इन इलाकों में CPU व पुलिस नहीं करेगी चेकिंग, डीजीपी ने दिए निर्देश

देहरादून: राज्य में सड़क हादसों की संख्या को कम करने के लिए उत्तराखंड पुलिस ने मंथन शुरू कर दिया है। डीजीपी अशोक कुमार ने यातायात सुधार पर जोर देने के निर्देश सीपीयू को दिए हैं। सीपीयू के आने से भले ही कई बड़े शहरों में लोगों ने हेलमेट पहनना सीखा हो लेकिन उनपर केवल चालान बुक भरने जैसे आरोप भी लगे हैं। सीपीयू कई बार गलियों में खड़े होकर भी ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं करने वालों पर जुर्माना लगाती है। इस पर डीजीपी ने कहा कि सीपीयू को गलियों में नहीं, हाइवे पर चेकिंग करने पर जोर देना होगा। सड़क हादसों को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करने होंगे।

उत्तराखंड आने वाले पर्यटक 15 सितंबर से उठाएंगे रिवर राफ्टिंग का लुत्फ, देखें रेट लिस्ट

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड बड़ा अपडेट: हरक सिंह रावत को भाजपा ने बर्खास्त किया- सूत्र

उत्तराखंड में अब इस तरीके से बांटा जाएगा सरकारी राशन, महिलाएं निभाएंगी बड़ी जिम्मेदारी

सीपीयू, इन्टरसेप्टर और ट्रैफिक पुलिस मुख्य सड़क व हाइवे पर रहेगी, गलियों में नहीं जाएगी। गलियों में केवल एक्सीडेंट अथवा इमरजेंसी में ही जाएगी। इसका उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए उन्होंने जनपद प्रभारियों को निर्देशित किया। सड़क दुर्घटना के मुख्य कारणों जैसे रैश, स्टंट ड्राइविंग, नशे की हालत में वाहन चलाना, वाहन चलाते हुए मोबाइल पर बात करना, ओवर लोडिंग, ओवर स्पीडिंग को रोकने का प्लान बनाए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में कोरोना वायरस की नई SOP जारी, शादी समारोह के लिए बनाए गए नियम

उत्तराखंड में एक सितंबर से नहीं खुलेंगे छोटे बच्चों के स्कूल

हल्द्वानी की दो संस्थाएं निभा रही हैं पैडमैन की भूमिका,बेटियों को जागरूक करने की मुहिम छेड़ी

इसके अलावा उन्होंने जिलों के प्रभारियों से ड्रग्स, साइबर क्राइम, महिला सुरक्षा पर भी जोर देने को कहा है। यातायात प्रबन्धन के दो उद्देश्य हैं- सड़क सुरक्षा और सुगम यातायात। इसका उद्देश्य केवल चालानों की संख्या में बढ़ोतरी करना अथवा शुल्क संयोजन मात्र नहीं है, बल्कि सड़क दुर्घटनाओं एवं दुर्घटनाओं से होने वाली जनहानि को रोकना है।उन्होंने कहा कि ट्रैफिक कंट्रोल रूम में बैठकर प्रतिदिन समीक्षा करनी होगी। इस तरह से जाम की स्थिति को कम करने का प्लान बनाया जाए। Traffic Eyes App का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। इससे जनता भी ट्रैफिक नियम उल्लंघन करने वाले की सूचना एप पर अपलोड कर सकेगी।

यह भी पढ़ें 👉  शिक्षा विभाग ने अगले आदेश तक उत्तराखंड में बंद किए सभी स्कूल,कोरोना का खतरा बढ़ रहा है

इंटर्नशिप में मेडिकल छात्रों को मिलेगा 17 हजार स्टाइपेंड, उत्तराखंड में आदेश जारी

सुशीला तिवारी अस्पताल के डॉक्टरों का आभार, 850 ग्राम के नवजात को दी नई जिंदगी

To Top