Sports

उत्तराखंड टीम के कप्तान ने ठोका दोहरा शतक, चार साल बाद आया ऐसा मौका

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: उत्तराखंड टीम के कप्तान ने रणजी ट्रॉफी के इस सत्र के दूसरे मुकाबले में दोहरा शतक जड़ दिया है। प्रदेश की राजधानी में खेले जा रहे मुकाबले में ओडिशा के खिलाफ कप्तान जीवनजोत सिंह ने शानदार 218 रनों की पारी खेली है। उत्तराखंड टीम के किसी भी खिलाड़ी की तरफ से रणजी ट्रॉफी का दोहरा शतक देर से आया है मगर दुरुस्त आया है। चार साल बाद किसी खिलाड़ी ने एक पारी में 200 से अधिक रन बनाए हैं।

ओडिशा की पहली पारी को 213 रनों पर ऑल आउट करने के बाद अपनी पहली पारी में उत्तराखंड टीम ने 477 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया है। इस पारी में सर्वाधिक योगदान कप्तान जीवनजोत सिंह का रहा। जिन्होंने 363 गेंदों पर 218 रनों की पारी खेली। उनके बल्ले से इस दौरान 35 चौके निकले। स्वप्निल सिंह और अदित्य तरे ने भी अर्धशतकीय पारी खेली। दोनों ने क्रमानुसार 65 और 57 रन बनाए।

बता दें कि उत्तराखंड की तरफ से रणजी ट्रॉफी के इतिहास में ये केवल पांचवा दोहरा शतक और साल 2019-20 सीजन के बाद पहला शतक है। कोरोना काल से पहले 2019-20 सत्र में कमल कन्याल ने सेंचुरी जमाई थी। दोहरे शतक की बात करें तो सौरभ रावत ने पहला दोहरा शतक जड़ा था। इसके बाद कार्तिक जोशी ने दोहरा शतक लगाया था। विनीत सक्सेना और रजत भाटिया ने एक ही मैच में मेघालय के खिलाफ डबल सेंचुरी लगाई थी। ये चारों दोहरे शतक 2018-19 सत्र में आए थे। जो बीसीसीआई सर्किट में उत्तराखंड का पदार्पण सत्र था।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: डॉक्टर के पास गए थे पति-पत्नी, घर से हो गई लाखों की चोरी
To Top