National News

बेटियों का सपना भी होगा साकार, अब NDA परीक्षा पास कर सेना में बनेंगी अफसर

बेटियों का सपना भी होगा साकार, अब NDA परीक्षा पास कर सेना में बनेंगी अफसर

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने देश की बेटियों के पक्ष में एतिहासिक फैसला सुनाया है। अब बेटियों का एनडीए परीक्षा देकर सेना में जाने का सपना पूरा हो सकेगा। संबंधित याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सेना को फटकार भी लगाई।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी। जिसमें कहा गया कि सेना में शामिल होने के लिए दी जाने वाली एनडीए परीक्षा में पुरुषों व महिलाएं में भेदभाव हो रहा है। 10+2 स्तर की शिक्षा ग्रहण कर चुकी महिलाएं ये परीक्षा नहीं दे सकती समान शिक्षा ग्रहण कर चुके पुरुष इसे दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें: शराब के नशे में भूल गया स्कूटी, मुखानी पुलिस से कहा सब्जी लेने गया था स्कूटी चोरी हो गई

यह भी पढ़ें: पौड़ी निवासी सूबेदार राम सिंह भंडारी जम्मू कश्मीर में शहीद

गौरतलब है कि एनडीए परीक्षा देने और योग्यता प्राप्त करने के बाद राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में शामिल होने का अवसर मिलता है। जिसके बाद वह भारतीय सशस्त्र बलों में स्थायी कमीशंड अधिकारी के रूप में नियुक्त हो पाते हैं। मगर महिलाओं को लिंग के आधार पर मौलिक अधिकार के उल्लंघन के साथ ही भेदभाव झेलना पड़ता है।

जस्टिस संजय किशन कौल और हृषिकेश रॉय की खंडपीठ में गुरुवार को इस याचिका पर सुनवाई की। इस दौरान सेना ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि यह एक नीतिगत निर्णय है। जबकि खंडपीठ ने कहा कि यह नीतिगत निर्णय “लिंग भेदभाव” पर आधारित है।

यह भी पढ़ें: चंपावत में म्यूजिक स्कूल खोलना चाहते हैं पवनदीप राजन, माता-पिता को दिया सफलता का श्रेय

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान से अपने घर देहरादून लौटे दो लोगों ने सुनाई आपबीती, कहा ये चार दिन कभी नहीं भूलेंगे

सुप्रीम कोर्ट ने सेना को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हर बार आदेश पारित करने के लिए न्यायपालिका की आवश्यकता क्यों है। आप न्यायपालिका को आदेश देने के लिए बाध्य कर रहे हैं। यह बेहतर है कि आप (सेना) अदालत के आदेशों को आमंत्रित करने के बजाय इसके लिए ढांचा तैयार करें।

बता दें कि कोर्ट ने अपना अंतरिम आदेश पारित कर दिया है। जिसके अनुसार 5 सितंबर को होने वाली राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) परीक्षा में महिलाओं को बैठने की अनुमति दी गई है।

हालांकि ये भी कहा है कि दाखिले कोर्ट के अंतिम आदेश के अधीन होंगे। इतना ही नहीं कोर्ट ने से कहा कि भारतीय नौसेना और वायु सेना ने पहले ही प्रावधान कर दिए हैं, लेकिन भारतीय सेना अभी भी पीछे है।

यह भी पढ़ें: भीमताल में 12 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म,पुलिस आरोपी को पकड़ने के लिए मुरादाबाद पहुंची

यह भी पढ़ें: बागेश्वर में तैनात डॉ. नेहा को बधाई दीजिए, केबीसी में जीत लिए साढ़े 12 लाख रुपए

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top