Tourism

चारधाम यात्रा 10 मई से होगी शुरू, पंजीकरण को लेकर आया अपडेट


Uttarakhand Tourism: Chaar Dham Yarta: Transit Camp Update: Electronic Display With Important Information:

सनातन धर्म में चार धाम यात्रा को सबसे पवित्र और अभीष्ट फल प्रदान करने वाली यात्रा बताया गया है। देशभर से हर वर्ष लाखों श्रद्धालु चार धाम दर्शन करने और अपनी मनोकामना पूरी होने पर भगवान का धन्यवाद करने आते हैं। 2024 की चार धाम यात्रा मई 10 से आरम्भ होने वाली है। इस खबर के सामने आने के बाद सभी श्रद्धालुओं के बीच ख़ासा उत्साह देखने को मिल रहा है। अनुमान लगाया जा रहा है कि चारधाम यात्रा के लिए 8-10 अप्रैल के आस-पास पंजीकरण भी शुरू हो जाएगा। चारों धामों में देश-विदेश से जुड़ने वाले भक्तों की सुविधा और सुगम यात्रा के लिए प्रशासन भी अपनी तैयारियों में अभी से कमर कस कर जुट गया है।

यात्रा कर रहे सभी भक्तों को मौसम और हवाओं की जानकारी देने के लिए इस बार ट्रांजिट कैम्पों में इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले लगाई जाएगी। इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले लगने से सभी यात्रियों को लाभ तो होगा ही साथ ही उनकी निर्भरता भी कम होगी। यात्रा में मौसम के बदल जाने से भक्तों को रास्ते में अप्रस्तुत समस्याओं का सामना करना पड़ता है। मोबाइल नेटवर्क ना मिलने पर यात्रा के दौरान मन में संशय भी बना रहता है। इन समस्याओं पर संज्ञान लेते हुए सरकार ने सभी प्रकार के भक्तों के लिए ट्रांजिट कैंप में इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले लगाने का फैसला किया है। जिससे उन्हें मौसम के साथ-साथ तापमान, वर्षा, हवा की गति, जैसी महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हो सकेंगी।

बता दें कि पिछले वर्ष चारधाम यात्रा प्रशासन ने ट्रांजिट कैंप की विशेष सौगात सभी भक्तों को दी थी। इसमें लगभग 22 करोड़ रुपये की लागत से तीन मंजिले भवन बने हैं। जिसमें सबसे ऊपरी मंजिल पर लगभग 112 बेड की डॉरमेट्री है, जिसे इस बार वातानुकूलित किया जाना है। साथ ही भूतल पर पांच बेड का क्लीनिक भी है।

ट्रांजिट कैंप प्रबंधन का कहना है कि चुनाव के चलते अभी टेंडर भरने में विलम्ब हो रहा है। फिर भी 25 अप्रैल तक सभी आवश्यक सुविधाओं के दुरुस्त होने पर प्रबंधन ने विश्वास जताया है। इन सुविधाओं में यात्रियों के लिए पूरे परिसर में छह एलईडी का लगाया जाना भी शामिल है। जिनमें से दो एलईडी वेटिंग रूम में और चार बाहरी परिसर में लगाई जाएंगी। बता दें कि 2023 में लगभग 56 लाख तीर्थ यात्रियों ने चारधाम यात्रा की थी। पिछले वर्ष तीर्थ यात्रियों की भव्य संख्या और लगातार संस्कृति के प्रति जनता की बढ़ती आस्था को देखते हुए इस बार प्रशासन ने 60 लाख यात्रियों के आने की उम्मीद की है।

To Top