Chamoli News

ईश्वर कोई चमत्कार कर दो…अपनों की तलाश में दूसरे राज्यों से चमोली पहुंच रहें लोग


देहरादून: चमोली में आई आपदा के बाद 204 लोग लापता हो गए। करीब 43 लोगों के शव बरामद कर लिए गए हैं। रविवार को टनल से तीन व कुल पांच शव बरामद होने की जानकारी सामने आ रही है। अभी भी 30 से ज्यादा लोग जो सुरंग में फंसे हैं उन्हें निरकालने का प्रयास किया जा रहा है। रेस्क्यू पिछले एक हफ्ते से जारी है। दूसरे राज्यों के कई लोग चमोली के पावर प्रोजेक्ट में कार्य कर रहे थे और लापता है।

परिजनों को उनका इंतजार है और इसके लिए वह चमोली पहुंचे। कई लोग वापस लौट गए हैं। कइयों को अभी विश्वास है कि चमत्कार जरूर होगा। रविवार को ऋषिगंगा और धौलीगंगा में आई आपदा से करीब 1500 करोड़ का नुकसान हुआ है। दूसरी ओर कई ग्रामीण इलाकों के संपर्क भी टूट गया है। हेलीकॉप्टर के माध्यम से उन्हें जरूरत की सामग्री पहुंचाई जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  तेज बारिश का है अलर्ट,नैनीताल पुलिस ने सैलानियों से किया अनुरोध पहाडों की ओर नहीं जाए

यह भी पढ़ें: वसीम जाफर का इस्तीफा मंजूर, उत्तराखंड क्रिकेट टीम के नए कोच होंगे मनीष झा

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी समेत कुमाऊं में बनेंगे 6 अस्पताल! आपको इलाज के लिए नहीं जाना पड़ेगा बाहर

यह भी पढ़ें: नशे की गिरफ्त से बाहर आएगा नैनीताल, स्पेशल पुलिस टीमें कसेंगी कारोबारियों पर शिकंजा

ऋषि गंगा की बाढ़ में लापता बाहरी प्रदेशों के लोगों के परिजन मायूस और हताश होकर अब अपने घरों की ओर लौटने लगे हैं। जो अभी भी यहां रुके हुए हैं उनको न रात में नींद आ रही है और न खाने की इच्छा हो रही है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन और ठहरने के बाद घर को लौट जाएंगे। बैराज साइट, रैणी और सुरंग के समीप बैठकर धौली गंगा को निहारते दिखाई दे रहे थे। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने उन्हें ढांढस बंधाया और रेस्क्यू कार्य में तेजी का आश्वासन दिया।

यह भी पढ़ें 👉  मां से कहा 22 अक्टूबर को घर आऊंगा लेकिन तिरंगे से लिपटकर गांव पहुंचा एकलौता बेटा विक्रम

आपदा के बाद नीती घाटी के अलग-थलग पड़े 13 गांवों की मुश्किलें कम नहीं हुई हैं। मलारी हाईवे के ध्वस्त हो जाने के बाद से गांवों का संपर्क अभी भी देश-दुनिया से कटा है। वह अन्य गांवों तक नहीं जा पा रहे हैं। वहीं गांव के अंदर आने जाने के लिए उनके वाहनों में ईधन नहीं है। ग्रामीणों अब प्रशासन की मदद के भरोसे ही बैठे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  ताबड़तोड़ शतक के बाद देवभूमि के उन्मुक्त ने अमेरिका में रचा इतिहास,अपनी टीम को बनाया चैंपियन

आपदा के वक्त मलारी हाईवे रैणी गांव के पास 90 मीटर मोटर पुल बह गया था। तब से नीती घाटी के 13 गांवों का संपर्क कटा है। ग्रामीणों की आवाजाही के लिए यह सड़क ही एकमात्र साधन थी। सड़क न होने से नीती घाटी में कई ग्रामीणों के वाहन भी फंसे हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: सात दिन से लापता थी तीन साल की बच्ची, घर के पास नाले में मिला शव

यह भी पढ़ें: परिवार कर रहा था 14 साल की बच्ची की शादी की तैयारी, हल्द्वानी चाइल्डलाइन हेल्प डेस्क ने इरादों पर फेरा पानी

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड रोडवेज ने नैनीताल जिले में लापरवाही के चलते पांच अफसरों को किया सस्पेंड

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top