Uttarakhand News

उत्तराखंड में विधायकों की शपथ के साथ टूट गई पुरानी परंपरा, आप भी जानें


Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के नतीजों के सामने आने के बाद कई मिथक टूटे हैं। सबसे पहले भाजपा की बात करते हैं जिसने लगातार दूसरी बार सरकार बनाकर इतिहास रचा है। उत्तराखंड में इससे पहले लगातार दूसरी बार सरकार किसी एक दल ने नहीं बनाई थी। साल 2002 से दो बार कांग्रेस तो वहीं दो बार भाजपा ने सरकार बनाई थी।

साल 2022 के चुनाव में भाजपा की जीत के बाद इतिहास बदल गया है। सोमवार को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में विधायक मंडल की बैठक होनी है। इसके बाद सीएम की घोषणा भी हो जाएगी। वहीं इससे पहले विधायकों को प्रोटेम स्पीकर ने सभी विधायकों को विधानसभा भवन में शपथ दिलाई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के 3 लाख से ज्यादा युवाओं झटका,UKSSSC ने 8 भर्ती परीक्षाओं को रोका

इससे पहले मुख्यमंत्री पहले शपथ लेते थे, जिसके बाद ही विधायकों को शपथ दिलाई जाती थी। पुरानी परंपरा पर गौर करें तो पहले विधायक मंडल दल की बैठक में विधायक दल का नेता चुना जाता था। मुख्यमंत्री व कैबिनेट शपथ लेती थी। इसके बाद मुख्यमंत्री राजभवन को प्रोटेम स्पीकर के लिए वरिष्ठ नेता का नाम भेजते थे।

Join-WhatsApp-Group
To Top