Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी: ना जाने और कितना डराएगा ये कोरोना, बस स्टेशन से वापस लौट रहे हैं यात्री


हल्द्वानी: कोविड-19 महामारी का डर एक बार फिर लोगों को सताने लगा है। याद रहे, पिछले साल भी वो महीना मार्च ही था जब से इसकी शुरुआत हुई थी। फिर अप्रैल महीने के आते-आते तो बुरा हाल हो गया था। इस बार भी फिर से कोरोना ने आतंक फैलाना शुरू कर दिया है। लोगों की तरह ही उत्तराखंड रोडवेज का भी फिर से बुरा हाल होना शुरू हो गया है। गुरुवार को तो गज़ब ही हो गया।

हुआ यह कि जब से उत्तराखंड सरकार ने कोरोना रोकथाम के लिए नए और सख्त नियम लागू किए हैं, यात्रा करने वालों की संख्या में कमी आनी शुरू हो गई है। रोडवेज बस में बैठने से पहले यात्री पूछताछ केंद्र पर जाकर सवाल कर रहे हैं। सवाल यह कि अगर दिल्ली या बरेली जाए तो रास्ते में बस से उतार कोरोना टेस्ट तो नहीं होगा। सोचने वाली बात है कि पहले ही दिन 22 लोग यह सवाल करने के बाद वापस लौट गए।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से पिथौरागढ़ के लिए रोडवेज बस सेवा शुरू,पहले से कम हो गई है दूरी

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में तेज हुआ कोरोना वायरस का प्रकोप, आज सामने आए 500 नए केस

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:जनता वर्षों से कर रही थी मांग, चकाचक होंगे 25 मोटर मार्ग

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच राज्य सरकार खासा सतर्क हो गई है। इसी कड़ी में शासन ने हरियाणा व दिल्ली समेत 12 राज्यों से आने वाले यात्रियों को उत्तराखंड में प्रवेश के लिए कोविड रिपोर्ट अनिवार्य कर दी है। रिपोर्ट ना लाने वालों की बॉर्डर पर ही कोरोना जांच की जा रही है। फिर उन्हें आइसोलेशन में भेजा जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  वैन में होगी खून की जांच, हल्द्वानी की जनता को जल्द मिल सकती है नई सेवा

इसी बात को लेकर हल्द्वानी से बाहर जाने वाले यात्री काफी शंका में हैं। लोगों को यह डर है कि अगर वे दिल्ली, बरेली आदि रूटों पर गए तो रास्ते में ही उनकी कोरोना जांच कर ली जाएगी। अब इस डर का जवाब रोडवेज कर्मियों के पास भी नहीं है। जिससे डर और अधिक बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड ब्रेकिंग:एसडीएम की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव,तहसील को किया गया सील

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर:ट्रेन से हल्द्वानी पहुंचने वालों की होगी कोरोना जांच, इन बातों का रखें ध्यान

इस डर से सबसे बड़ा नुकसान तो उत्तराखंड रोडवेज को हो रहा है। साल 2020 में कोरोना वायरस के प्रकोप ने उत्तराखंड के पर्यटन को करोड़ों का नुकसान पहुंचाया था। पर्टयन से जुड़े सैंकड़ों लोगों को अपना करोबार तक बंद करना पड़ा था। उत्तराखंड रोडवेज़ को भी घाटे का सामना करना पड़ा था। करीब तीन महीने रोडवेज बसों का संचालन पूरी तरह से बंद था।

यह भी पढ़ें 👉  रामनगर ढिकुली गांव में बही बच्ची का शव तीन दिन बाद कोसी नदी में मिली

इसके बाद हालात सुधरे तो धीरे-धीरे बसों को चलाया जाने लगा। लेकिन कोरोना वायरस की दूसरी लहर एक बार फिर रोडवेज को नुकसान पहुंचा रही है। इस बार भी गर्मियों को देखते हुए रोडवेज खासा तैयारियों में जुटा हुआ था। मगर अब सरकार की सख्ती से यात्रियों की संख्या भी घटने लगी है। जिससे रोडवेज की इनकम का प्रभावित होना भी लाज़मी है।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी में रहना सावधान,डीएम ने बनाई मास्क नहीं पहनने वालों को पकड़ने के लिए टीम

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में चौकाने वाला मामला,बेटी ने बात नहीं मानी तो मां ने की खुदकुशी

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top