Ad
Nainital-Haldwani News

हाईकोर्ट ने भी माना…अब जरूरी हो गया है रानीबाग-नैनीताल रोपवे प्रोजेक्ट

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

नैनीताल: सरोवर नगरी में पीक सीजन होता है तो गाड़ियों की वजह से आवाजाही बड़ी प्रभावित होती है। जाम के कारण लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ती है। इस दुविधा से निपटने के लिए तीन साल पहले तत्कालीन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रानीबाग नैनीताल रोपवे प्रोजेक्ट की घोषणा की थी। अब हाईकोर्ट ने भी इस प्रोजेक्ट को जरूरी माना है।

गौरतलब है कि उत्तराखंड पर्यटन विकास बोर्ड ने अक्टूबर 2018 में इसका डिजाइन भी तैयार किया तब प्रोजेक्ट की लागत करीब 500 से 550 करोड़ के करीब आंकी गई थी। रिपोर्ट के अनुसार इस प्रोजेक्ट के निर्माण के बाद एक लाख दस हजार वाहनों की नैनीताल में एंट्री रुक जाएगी। अब इस प्रोजेक्ट को लेकर नैनीताल हाईकोर्ट ने भी एक अहम टिप्पणी की है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: घरों से बाहर रहकर काम करने वाली बहन-बेटियों की सुरक्षा के लिए बनेगी SOP

नैनीताल हाईकोर्ट का कहना है कि उत्तराखंड सरकार को रानीबाग नैनीताल रोपवे प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाना चाहिए। माना जा रहा है कि प्रॉपर प्रोजेक्ट को नए सिरे से शुरू किया जाएगा। एनएचएआई के अधिवक्ता नरेश पंत ने बताया कि दुनिया की सबसे टॉप व दक्ष विदेशी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। जो कि नई डीपीआर तैयार करेगी और उस हिसाब से रिपोर्ट पर काम किया जाएगा।

Join-WhatsApp-Group
To Top