Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी: IAS बनकर स्कूल पहुंची दीक्षिता जोशी, छात्रों को दिया चुनौतियों से पार पाने का ‘मंत्र’


हल्द्वानी: जून माह में यूपीएससी 2022-2023 के नतीजे सामने आए थे। हल्द्वानी निवासी दीक्षिता जोशी ने ऑल इंडिया 58वीं रैंक हासिल की थी। दीक्षिता जोशी की कहानी ने युवाओं को प्रेरित किया था। उन्होंने बिना कोचिंग के यूपीएससी परीक्षा उत्तीर्ण की। दीक्षिता जोशी की कहानी जानकर कुमाऊं कमिश्नर आईएएस दीपक रावत भी प्रभावित हुए थे। आईएएस रावत उनके घर बधाई देने भी पहुंचे थे। ( IAS DIKSHITA JOSHI)

आर्यमान विक्रम बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ लर्निंग से इंटर तक की पढ़ाई करने वालीं दीक्षिता जोशी बीते दिनों स्कूल पहुंची थीं। स्कूल में उनका जोरदार स्वागत किया गया। वहीं दीक्षिता जोशी ने अपने स्कूली दिनों को भी याद किया। उनका छात्रों के साथ एक सेशन भी हुआ, जिसमें उन्होंने अपनी तैयारी व अन्य चीजों के बारे में बताया। कैसे उन्होंने दो बार परीक्षा में कामयाबी नहीं मिलने के बाद भी हार नहीं मानी, इसको लेकर भी उन्होंने छात्रों के साथ बात की… ( ARYAMAN VIKRAM BIRLA SCHOOL HALDWANI)

ट्रेनी IAS दीक्षिता जोशी जोशी ने युवाओं को बताया कि चुनौतियां हर किसी के जीवन का हिस्सा है। ऐसे में अगर युवा अवस्था में ही नींव को मजबूत किया जाए तो मानिसक रूप से आप स्वस्थ रहते हैं। मुश्किल को पार करने के लिए आप कोई ना कोई रास्ता निकाल लेते हैं। उन्होंने कहा कि शारीरिक और मानिसक रूप से स्वस्थ्य रहना बेहद जरूरी है। ऐसे में खेल और ध्यान को अपनी जीवनशैली में उतारना बेहद जरूरी है। पढ़ाई के लिए छोटे-छोटे लक्ष्य निर्धारित करें, वो पूरा होने पर एक नई ऊर्जा का संचार होगा और दवाब भी नहीं बनेगा। ( DIKSHITA JOSHI RANK 58 UPSC)

बता दें कि बिरला स्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद दीक्षिता ने पंतनगर विश्वविद्यालय ने बीटेक किया। इसके बाद वो आईआईटी मंडी एमटेक के लिए चले गई। साल 2019 में उन्होंने UPSC की तैयारी शुरू की और 2023 में सफलता हासिल की। दीक्षिता की माता दीपा जोशी पहाड़पानी के खीमराम आर्य राजकीय इंटर कॉलेज में हिंदी विषय की प्रवक्ता हैं। जबकि पिता आईके जोशी नैनीताल बीडी पांडे अस्पताल में फार्मासिस्ट के पद पर तैनात हैं।

To Top