Nainital-Haldwani News

कौन हैं IAS वंदना सिंह चौहान, UPSC से लेकर जिलाधिकारी नैनीताल बनने तक का सफर

हल्द्वानी: शासन ने 17 मई 2023 को 24 आईएएस अधिकारियों के तबादले किए हैं। नैनीताल जिलाधिकारी के रूप में आईएएस वंदना सिंह चौहान को जिम्मेदारी दी गई है। IAS वंदना सिंह चौहान कई बार सोशल मीडिया वायरल हुई है। खासकर UPSC में मिली कामयाबी चलते कई युवा उसने प्रेरणा लेते हैं।

UPSC में ऑल इंडिया 8वीं रैंक

IAS वंदना सिंह चौहान हरियाणा के नसरुल्लागढ़ की रहने वाली हैं। उन्होंने मुरादाबाद के पास लड़कियों के गुरुकुल में शिक्षा हासिल की। इंटर पूरा करने के बाद उन्होंने लॉ की पढ़ाई की है। इसी दौरान उन्होंने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी भी शुरू कर दी थी। वंदना चौहान ने तैयारी के लिए कोई कोचिंग नहीं ली। वह रोजाना 12-14 घंटे की पढ़ाई करती थी। वंदना सिंह चौहान ने पहले प्रयास में ही सफलता हासिल कर ली। वंदना सिंह चौहान (24 वर्षीय) ने साल 2012 में ऑल इंडिया में 8वीं रैंक हासिल कर आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा किया।

उत्तराखंड में आईएएस वंदना सिंह चौहान

आईएएस वंदना सिंह चौहान पिथौरागढ़ की मुख्य विकास अधिकारी भी रही हैं। साल 2017 में वह जिले की पहली महिला सीडीओ बनी थी। साल 2020 तक उन्होंने पिथौरागढ़ में सेवाएं दी। इस दौरान वह बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ अभियान की ब्रांड एंबेसडर भी रही थी। साल 2020 में उन्हें सबसे पहले रुद्रप्रयाग का डीएम बनाया गया था लेकिन कुछ ही वक्त उन्हें शासन के कार्मिक विभाग में अटैच किया गया गया था। इसके बाद 12 नवंबर को उन्हें KMVN का एमडी बनाया गया। यहां जब उन्होंने नियुक्ति नहीं ली तो उन्हें ग्राम्य विकास का अपर सचिव बनाया गया था। साल 2021 में उन्हें अल्मोड़ा का जिलाधिकारी बनाया गया था। अब साल 2023 में वह नैनीताल की 48वीं जिलाधिकारी बनी हैं।

To Top