National News

बदल गया भारत का इतिहास,पांच महिलाएं भारतीय सेना में बनी कर्नल


नई दिल्ली:सोर्स भारतीय सेना में भी अब महिलाएं कर्नल बनेंगी। एक सेलेक्शन बोर्ड ने गणना योग्य सेवा के 26 साल पूरे होने के बाद पांच महिला अधिकारियों को कर्नल रैंक पर प्रमोट करने का फैसला लिया गया है। यह पहली बार है कि कोर ऑफ सिग्नल, कोर ऑफ इलेक्ट्रॉनिक एंड मैकेनिकल इंजीनियर्स (EME) और कोर ऑफ इंजीनियर्स के साथ सेवारत महिला अधिकारियों को कर्नल के पद पर मंजूरी दी गई है।

भारतीय सेना की ज्यादा ब्रांचों में प्रमोशन होना, महिला अधिकारियों के सेना में नए युग की शुरुआत कहा जा सकता है। भारतीय सेना की अधिकांश शाखाओं से महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के निर्णय के साथ, यह कदम एक जेंडर न्यूट्रल सेना के प्रति भारतीय सेना के दृष्टिकोण को दिखाता है।

कर्नल टाइम स्केल रैंक के लिए चुनी गई पांच महिला अधिकारियों में कोर ऑफ सिग्नल से लेफ्टिनेंट कर्नल संगीता सरदाना, ईएमई कोर से लेफ्टिनेंट कर्नल सोनिया आनंद और लेफ्टिनेंट कर्नल नवनीत दुग्गल और कोर ऑफ इंजीनियर्स से लेफ्टिनेंट कर्नल रीनू खन्ना और लेफ्टिनेंट कर्नल रिचा सागर हैं।

वर्तमान में, सेना की पिरामिड संरचना और कठोर चयन मानदंडों के कारण अधिकारियों का एक बड़ा हिस्सा कर्नल के पद के लिए कटौती करने में विफल रहता है। इसका मतलब है कि एक लेफ्टिनेंट कर्नल तब तक कर्नल नहीं बन सकता जब तक कि कोई वर्तमान कर्नल सेवानिवृत्त नहीं हो जाता या उसे ब्रिगेडियर में पदोन्नत नहीं किया जाता। 26 साल की गणना योग्य सेवा के बाद समय-समय पर कर्नल बन जाते हैं और इसलिए वे कर्नल (TS) के रूप में अपनी रैंक लिखते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में शूटआउट, गैंगस्टर गोगी समेत 3 की मौत

इससे पहले, महिला अधिकारियों के लिए पदोन्नति सिर्फ आर्मी मेडिकल कॉप्स (एएमपी), जज एडवोकेट जनरल (जेएजी) और आर्मी एजुकेशन कॉर्प्स (एईसी) में लागू होता था।

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top