Uttarakhand News

पहाड़ी रंग में रंगा कोक स्टूडियो, कमला देवी के ‘सुनचड़ी’ गीत का पूरा देश हुआ दिवाना


Uttarakhand news: Coke studio: kamla devi: कोक स्टूडियो भारतीय लोक संगीत से लेकर पॉप संगीत और हिपहॉप व वेस्टर्न संगीत का फ्यूजन तैयार करता है। यह भारत के सबसे लोकप्रिय म्यूजिक प्रोग्राम में से एक है। कोक स्टूडियो ने देश के कई गायकों को एक नई पहचान दी है। वहीं इन दिनों कोक स्टूडियो पहाड़ी रंगों में रंगा हुआ है। कमला देवी द्वारा गाये गए “सुनचड़ी” गीत कोक स्टूडियो के साथ-साथ देश- विदेशों में भी खूब धूम मचा रहा है। कोक स्टूडियो ने इस गाने को बुधवार को लॉन्च किया।

15 साल की उम्र में शादी हो गई

कमला देवी उत्तराखंड के बागेश्वर की रहने वाली हैं। 52 वर्षीय कमला देवी जागर गायिका हैं। लोक गीतों का आशीर्वाद उन्हें विरासत के रूप में उनके पिता से मिला है। उनके पिता बिर राम जागर और हुड़किया बोल गायक थे।और उन्हें बचपन से ही न्यौली, छपेली, राजुला-मालूशाही, हुड़कीबोल आदि गीतों को गाने का शौक था। 15 साल की उम्र में उनकी शादी हो गई। और उनका मायका गरुड़ के लखनी गांव रवाईखाल के बिजोरीझाल में हैं। उनके पति गोपाल राम भी संगीत में रूची रखते हैं। साल 2005 में नैनीताल में आयोजित शरदोत्सव में गाने का मौका मिला, जिसका श्रेय वे भिकियासैंण, रानीखेत के शिरोमणि पंत को देती हैं। इसके बाद उन्होंने कभी पीड़े मुड़कर नहीं देखा।

कमला देवी के साथ नेहा कक्कड़ भी आएंगी नजर

उत्तराखंड की पौराणिक प्रेम कहानी राजुला मालुसाई उत्तराखंड में बहुत प्रसिद्ध है। अब तक उत्तराखंड की वादियों में गाया जाता है लेकिन कोक स्टूडियो के माध्यम से राजुला मालुसाई की अमर प्रेम कथा के बारे में अब पूरा देश और दुनिया में जान पाएगा। जिसे एक अलग स्तर पर ले जाने का काम किया है उत्तराखंड की कमला देवी ने। इस गाने में कमला देवी के साथ बॉलीवुड की मशहूर सिंगर नेहा कक्कड़ भी मौजूद हैं। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कमला देवी को कोक स्टूडियो में गायन का अवसर मिलने पर उन्हें बधाई दी है। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अपने ट्विटर पर लिखा कि उत्तराखंड की लोक गायिका कमला देवी जी को कोक स्टूडियो में गायन का अवसर मिलने पर उन्हें बहुत-बहुत शुभकामनाएं। हल्द्वानी लाइव की टीम की तरफ से कमला देवी को ढ़ेर सारी बधाई और शुभकामनाएं।

To Top