Election Talks

राजा राम से लेकर क्वीन कंगना तक का नाम, भाजपा ने वरुण गांधी का टिकट काटा


Loksabha Election Update: BJP 5th List: BJP Total Declared Candidates:

भाजपा ने 24 मार्च 2024 को अपने उम्मीदवारों की पांचवी लिस्ट जारी करते हुए 111 नामों की घोषणा कर दी है। इन नामों में कंगना रनौत, भगवान राम का पात्र निभाने वाले अरुण गोविल, झारखण्ड की सीता सोरेन जैसे कई बड़े नाम शामिल हैं। पश्चिम बंगाल में महिला अत्याचार का गढ़ बन चुके संदेशखाली से भाजपा ने एक पीड़िता को चुनावी रण में उतारा है। इससे पहले ये एक्सपेरिमेंट भाजपा मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव में भी कर चुकी है, जिसके कारण उस सीट पर उन्हें भारी मतों से जीत मिली थी। भाजपा अब तक लोकसभा की 402 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है।

उत्तरप्रदेश में भाजपा ने अब तक 64 नामों की घोषणा की है। सहयोगी दलों के साथ सीट शेयरिंग के बाद भाजपा 80 में से 75 सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारेगी। उत्तरप्रदेश में जहाँ बड़े-बड़े नामों को टिकट दिया गया है वहीं पीलीभीत से वरुण गाँधी का टिकट कट चूका है। भाजपा ने वरुण गाँधी का टिकट तो काट दिया लेकिन मेनका गाँधी को सुल्तानपुर से कमान सौंपी है।

मेरठ से भगवान राम का पात्र निभाने वाले अरुण गोविल चुनाव लड़ रहे हैं। अरुण गोविल को चुनावी रण में उतार कर भाजपा ने उनकी प्रतीकात्मक छवि को जनता के सामने विकल्प के रूप में रखा है। उत्तरप्रदेश में राम मंदिर निर्माण को भगवान राम और उनके सभी भक्तों की सदियों से प्रतीक्षित जीत बताई गई। ऐसे में भगवान राम का पात्र निभा चुके सम्मानित कलाकार अरुण गोविल भाजपा को कितना फायदा पहुंचा सकते हैं यह देखना दिलचस्प रहेगा।

दक्षिण में राहुल गांधी के सामने भाजपा ने अपने प्रदेश अध्यक्ष ‘के. सुरेंद्रन’ को टिकट दिया है। हरियाणा की कुरुक्षेत्र सीट से कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पूर्व सांसद नवीन जिंदल को भाजपा ने रण में उतारा है। सरकार की नीतियों और महिला सम्मान के लिए बुलंद आवाज़ उठाने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को हिमाचल की मंडी से सांसद का टिकट दिया गया है। झारखण्ड में हेमंत सोरेन की भाभी सीता सोरेन और ओडिशा की पूरी सीट से संबित पात्रो को टिकट मिला है। भाजपा के उम्मीदवारों के चयन से लगता है कि इस बार भाजपा बिना कोई जोखिम लिए स्वच्छ छवि वाले उम्मीदवारों को अपनी टिकट पर चुनाव लड़वा रही है, यह निर्णय कैलक्युलेटेड रिस्क वाली रणनीति का भी हिस्सा माना जा सकता है।

To Top