Nainital-Haldwani News

नैनीताल: अब खिलौने बन कर नहीं रहेंगे ग्रामीणों के मोबाइल,गांवों तक पहुंचेगी 4G इंटरनेट सेवा


नैनीताल: अब खिलौने बन कर नहीं रहेंगे ग्रामीणों के मोबाइल,गांव पहुंचेंगे सिग्नल,मिलेगी 4G इंटरनेट सेवा

नैनीताल: शहर की अपेक्षा गांव में मोबाइल चलाना कठिन है। दिक्कतें नेटवर्क की हैं। दरअसल गांवों में अधिकतर नेटवर्क की कमी रहती ही है। हालांकि अब तो फिर भी गांव गांव तक इंटरनेट आदि नेटवर्क पहुंच रहे हैं। मगर कुछ जगह अब भी इन सुविधाओं से वंचित रह गई हैं। इन्हीं में से कुछ हैं नैनीताल जिला मुख्यालय से सटे करीब एक दर्जन गांव। अब जियो की तरफ से यहां के लोगों को तोहफा मिलने जा रहा है।

Ad

जी हां, अब इन गांवों में नेटवर्क की समस्या के समाधान के साथ साथ 4जी इंटरनेट सुविधा भी मिलेगी। रिलायंस जियो की ही ओर से खुर्पाताल न्याय पंचायत के खांणी तोक में टॉवर लगाने का काम किया जा रहा है। जो कि फाइनल चरण में जा पहुंचा है। बता दें कि नारायण नगर में तो पिछले साल ही रिलायंस जियो ने टॉवर लगाकर लोगों की दिक्कतें दूर की थी।

यह भी पढ़ें 👉  पिता हरीश रावत को 2017 चुनावों में मिली हार का बदला लेने मैदान पर उतरेंगी बेटी अनुपमा रावत

विधानसभा चुनावों में ये नेटवर्क और इंटरनेट का गांव तक पहुंचना भी बड़ा मुद्दा रहा था। लोकसभा चुनाव 2017 के बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में बारापत्थर की तलहटी में स्थित बस्ती नारायण नगर की आबादी ने चुनाव बहिष्कार तक कि चेतावनी दी थी। कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य, विधायक संजीव आर्य ने फिर सार्वजनिक मंच से मोबाइल टॉवर लगाने के बाद ही वोट मांगने आने की घोषणा की थी।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: बेटी की शादी के दिन कोरोना ने छीन ली पिता की सांसें, मचा कोहराम

यह भी पढ़ें 👉  अब होगा घमासान...कांग्रेस से नाराज संध्या डालाकोटी ने लालकुआं से निर्दलीय ठोकी चुनावी ताल

यह भी पढ़ें: सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने दिए निर्देश, ड्रोन के माध्यम पता लगाया जाएगा नदियों का बहाव

बहरहाल अब समस्या दूर होने जा रही है। ग्रामीणों को अब मोबाइल का इस्तेमाल करना रास आएगा। अब मोबाइल सिर्फ एक खिलौना मात्र नहीं रहेगा। इसके अलावा गांव वालों को फोन करके ऊंचे स्थानों पर जाना पड़ता था, उसकी भी अब कोई जरूरत नहीं पड़ेगी। लाजमी है कि कोरोना काल में ठप पड़ी बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई पर भी इसका अच्छा असर पड़ेगा।

आपको बता दें कि कालाढूंगी रोड पर मंगोली के आसपास बजून, नलिनी, दूरस्थ अधोड़ा, सारी, फगुनियाखेत, जलालगांव, गैरीखेत सोनधार, आदि ग्राम सभाओं में ग्रामीण दशकों से मोबाइल सिंग्नल की समस्या से परेशान हैं। इधर, रोखड़ के प्रधान योगेश्वर जीना कहते हैं, सिंग्नल समस्या से यहां मोबाइल खिलौना बन गए हैं। बहरहाल अब आधा दर्जन गांवों में दिक्कतें दूर हो जाएंगी। इसके अलावा विधायक संजीव आर्य ने बताया कि जल्द क्षेत्र के आधा दर्जन ग्राम सभाओं की मांग पूरी हो जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  "मेरी पत्नी को ही दे देते टिकट...", टिकट कटने के बाद रो पड़े भाजपा के विधायक - VIDEO

यह भी पढ़ें: बाबा रामदेव का विवादित बयान,गिरफ्तार तो किसी का बाप भी नहीं करा सकता

यह भी पढ़ें: वैक्सीन की उम्मीद में बैठी उत्तराखंड सरकार लगा बड़ा झटका,ग्लोबल टेंडर में किसी ने नहीं लिया भाग

यह भी पढ़ें: भारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं नए नियम

यह भी पढ़ें: भारत सरकार के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा संविधान के खिलाफ हैं नए नियम

To Top