Sports News

धौनी से मिली प्रेरणा, दूध बेचने वाले पिता का बेटा क्रिकेटर बन गया

नई दिल्ली: आईपीएल-16 में रिंकू सिंह के कमाल के बाद अब हर उस खिलाड़ी की बात हो रही है जिसने कम संसाधनों के बाद भी क्रिकेट के मैदान पर जलवा बिखेरा है। रिंकू सिंह ने गुजरात टाइटंस के खिलाफ आखिरी ओवर में 5 छक्के जड़कर इतिहास दिया उन्होंने केवल 21 गेदों में 48 रनों की पारी खेली रिंकू के लिए अलीगढ़ से आईपीएल तक का सफर बिल्कुल भी आसान नहीं था उनके पिता गैस के वेंडर थे तो वहीं उनके भाई भी मजदूरी किया करते थे लेकिन रिंकू ने अपने क्रिकेट को नहीं छोड़ा और आज उन्हीं की बदौलत घर के हालात भी बदल गए हैं

रिंकू सिंह की तरह ही कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने क्रिकेटर बनने के सपने को साकार कर परिवार की स्थिति को बदला है। आज हम आपको पंकज यादव के बारे में बताएंगे जिन्होंने महेंद्र सिंह धोनी को देखकर क्रिकेट खेलना शुरू किया और फिर भारतीय अंडर-19 विश्व कप टीम में भी जगह बनाई।

पंकज साल 2018 में अंडर-19 विश्व कप अपने नाम करने वाली टीम के सदस्य थे। पंकज यादव के पिता दूध बेचने का कार्य करते हैं। पंकज यादव एक लेग स्पिनर है और सबसे पहले चर्चाओं में तब आए जब उन्होंने साल 2016- 2017 विजय मर्चेंट ट्रॉफी में कमाल कर दिया। पंकज ने छह मुकाबलों में 45 विकेट लेकर अपनी छाप छोड़ दी। झारखंड के रहने वाले पंकज को अच्छे प्रदर्शन का इनाम मिला और अंडर-19 चैलेंजर ट्रॉफी में उन्होंने ग्रीन इंडिया के लिए शानदार प्रदर्शन किया उन्होंने 2 मुकाबलों में 6 विकेट अपने नाम किए।

पंकज सिंह लेग स्पिनर हैं और अपना आदर्श दिवंगत महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न को मानते हैं। वही क्रिकेट के मैदान में देश का नाम रोशन करने की प्रेरणा महेंद्र सिंह धौनी से मिलती है। वैसे तो पंकज यादव अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप जीतने के बाद सुर्ख़ियों से गायब है लेकिन उन्होंने कम संसाधनों के बाद भी भारत के लिए जूनियर क्रिकेट खेला है, ऐसे में झारखंड के तमाम क्रिकेट फैंस को उम्मीद है कि पंकज घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन कर जरूर वापसी करेंगे।

To Top
Ad