Nainital-Haldwani News

ICMR के नए निर्देशों के बाद हल्द्वानी में भी बंद हुआ प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना का इलाज


ICMR के नए निर्देशों के बाद हल्द्वानी में भी बंद हुआ प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना का इलाज

हल्द्वानी: कोरोना संक्रमण के इस भयानक दौर की बड़ी खबर सामने आई है। जिस प्लाज्मा थेरेपी को कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में इस्तेमाल किया जा रहा था। उसे अब बंद कर दिया गया है। जी हां, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) द्वारा जारी नई गाइडलाइन्स के अनुसार इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है। हल्द्वानी शहर के सरकारी व निजी चिकित्सालयों में भी आदेशों के बाद इस थेरेपी को रोक दिया गया है।

Ad

बता दें कि कोरोनाकाल में प्लाज्मा थेरेपी को सबसे अच्छा इलाज माना जा रहा था। कई तरह के कदम शासनिक व प्रशासनिक स्तर पर उठाए जा रहे थे जिससे लोग प्लाज्मा दान करने हेतु जागरुक हो सकें। हल्द्वानी से सुशीला तिवारी अस्पताल में 500 व निजी अस्पतालों में भर्ती 400 से अधिक कोोना मरीजों में से रोजाना कम से कम 15 मरीजों को इसी थेरेपी से इलाज की सलाह दी जा रही थी।

यह भी पढ़ें 👉  पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, नैनीताल समेत 15 गेस्ट हाउस की बुकिंग में मिलेगी 75 फीसदी छूट, शर्तें लागू

यह भी पढ़ें: बद्रीनाथ धाम के खुले कपाट,स्थिति सामान्य होने के बाद शुरू हो सकती है यात्रा

यह भी पढ़ें: CM साहब मेरी गर्लफ्रैंड की शादी रुकवाओं,नहीं तो आपकों मेरी हाय लगेगी

प्लाज्मा की ऐसी होड़ लगी थी कि लोग इधर उधर भटकने पर मजबूर थे। जिला प्रशासन ने पोर्टल भी बना दिया था जिसके माध्यम से लोग पंजीकृत होकर प्लाज्मा दान कर रहे थे। मगर अब अचानक इस थेरेपी को हटाने का फैसला आइसीएमआर द्वारा लिया गया है। इस बाबत 17 मई को दिशा निर्देश जारी हो गए हैं। इसके बाद से ही अधिकांश अस्पतालों ने प्लाज्मा थेरेपी से इलाज की प्रक्रिया पूरी तरह बंद कर दी है।

यह भी पढ़ें 👉  पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, नैनीताल समेत 15 गेस्ट हाउस की बुकिंग में मिलेगी 75 फीसदी छूट, शर्तें लागू

नीलकंठ अस्पताल के डा. गौरव सिंघल ने बताया कि आइसीएमआर के अलावा इंग्लेंड का रिकवरी ट्रायल और अर्जेंटीना के शोध में स्पष्ट था कि प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में किसी तरह की राहत मिलती है। सुशीला तिवारी कोविड अस्पताल के डा. यतेंद्र ने कहा कि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार प्लाज्मा थेरेपी से कम इलाज हो रहा था। अब निर्धारित गाइडलाइन के आधार पर अन्य दवाइयों से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, नैनीताल समेत 15 गेस्ट हाउस की बुकिंग में मिलेगी 75 फीसदी छूट, शर्तें लागू

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 2 लाख पार हुआ कोरोना वायरस को मात देने वालों का आंकड़ा

यह भी पढ़ें: लालकुआं,कालाढूंगी,रामनगर के लिए डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने दिया महत्वपूर्ण अपडेट

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में अब बड़े स्केल पर होगी कोरोना टेस्टिंग

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: घर बैठे बनेगा लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस, ऑनलाइन हो जाएंगी ये सुविधाएं

To Top