Sports News

पुजारा भाई के वजह से नहीं हुआ मेरा शतक, गुस्से में पंत ने बयां किया दर्द

Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: भारत ने साल 2020-2021 में हुए ऑस्ट्रेलिया दौरे में कमाल किया था। टीम ने इंडिया ने टेस्ट सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया था। वो भी तब जब टीम पहले टेस्ट में टीम इंडिया केवल 35 रनों पर ऑलआउट हो गई थी। दूसरे टेस्ट से पहले विराट कोहली घर लौट गए थे और तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को चोट लग गई थी। कप्तानी की जिम्मेदारी अजिंक्य रहाणे ने निभाई और कमाल किया। तत्कालीन कप्तान अजिंक्य रहाणे ने इस सीरीज पर बनी डॉक्यूमेंट्री वेब सीरीज ‘बंदों में था दम’ में कई खुलासे किए हैं।

इस लेख में हम सिडनी टेस्ट की बात करेंगे। चौथी पारी भारतीय टीम को विशाल लक्ष्य हासिल करना था लेकिन चोट और अहम बल्लेबाजों के आउट होने के बाद आर अश्विन और हनुमा विहारी ने मैच को ड्रॉ कराया हालांकि एक वक्त में भारतीय टीम मुकाबला जीतने के लिए जा रही है। जीत के लिए ऋषभ पंत ने नींव रखी थी लेकिन वह 97 रन पर आउट हो गए।

शतक से चूकने के बाद पंत ने रहाणे के सामने अपने गुस्सा दिखाया था। वेब सीरीज़ में पंत को लेकर रहाणे ने कहा कि पंत और पुजी के बीच 148 रन की साझेदारी हो गई थी। पंत 97 पर खेल रहे और पुजारा ने उनसे आराम से खेलने को कहा। पंत ने रहाणे से कहा ‘पुजी भाई ने मुझे स्कोर बता दिया… मैं आराम से खेल रहा था और शतक भी हो जाता’ । पंत ने कहा कि इसके बाद उनका ध्यान शॉर्ट और शतक दोनों की तरफ हो गया और वह नाथन लियोन की गेंद पर शॉर्ट थर्ड मेन को कैच दे बैठे। पुजारा ने उनसे कहा कि बाउंड्री मारने कि जरूरत नहीं है सिंगल, डबल्स में भी काम चला सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी निवासी दीक्षांशु नेगी इंग्लैंड रवाना होंगे, शानदार प्रदर्शन का मिला ईनाम

डॉक्यूमेंट्री वेब सीरीज में पंत ने कहा, ‘मुझे अपनी योजनाओं में स्पष्ट होना पसंद है। मैं यही करना चाहता हूं। हमने शानदार मोमेंटम बनाई थी।’ आउट होने के बाद पंत गुस्से में पवेलियन लौटे उन्हें लगा कि अगर उन्हें वह करने दिया गया होता जो वह कर रहे थे, तो शतक हो जाता।

Join-WhatsApp-Group
Ad
To Top