Pithoragarh News

पिथौरागढ़ की शीतल राज ने 15 अगस्त के दिन एल्ब्रुस पर फहराया तिरंगा, पूरे देश में फोटो वायरल

पिथौरागढ़ की शीतल राज ने माउंट एवरेस्ट के बाद एल्ब्रुस फतह कर बनाया रिकॉर्ड, टैक्सी चलाते हैं पिता

पिथौरागढ़: जब महिलाएं अपनी शक्ति से वाकिफ हो जाती हैं तो उन्हें रोकना नामुमकिन हो जाता है। रोकना चाहिए भी नहीं। अगर इन्हें रोक लिया गया तो हमें कभी कोई शीतल राज नहीं मिलेगी। जी हां, पिथौरागढ़ की शीतल राज ने यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्ब्रुस फतह कर इतिहास रच दिया है।

गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाली शीतल पिथौरागढ़ में रहती हैं। शीतल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रदेश ही नहीं पूरे भारत को गर्व के पल दिए हैं। सबसे कम उम्र में कंचनजंगा और अन्नपूर्णा चोटी को फतह कर चुकी 25 वर्षीय शीतल ने अब यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्ब्रुस पर तिरंगा लहराया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड के पवनदीप राजन बने इंडियन आइडल 12 के विजेता

यह भी पढ़ें: 15 अगस्त पर वायरल हुआ हॉकी दिग्गज पी श्रीजेश का अंदाज,देशभक्ति गीत से करते हैं ऊर्जा का संचार

यह भी पढ़ें 👉  जन्मदिन पर उत्तराखंड सीएम ने DGP को दिए निर्देश,मेरे काफिले से जनता को नहीं होनी चाहिए परेशानी

बता दें कि शीतल ने पूर्व में माउंट एवरेस्ट को भी सफलतापूर्वक फतह किया हुआ है। फिलहाल वक्त में कुमाऊं मंडल विकास निगम नैनीताल के एडवेंचर विंग में कार्यरत शीतल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरे भारत को खुश होने का मौका दिया है। इस मौके पर केएमवीएन के एमडी नरेंद्र सिंह भंडारी और महाप्रबंधक एपी बाजपेई ने शीतल के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए खुशी जाहिर की है।

जानकारी के अनुसार 15 अगस्त को समिट करने के उद्देश्य से टीम ने प्लान बनाया मगर कोरोना के चलते फ्लाइट लेट हो गई। तीन दिन की देरी से मास्को पहुंची टीम ने 13 अगस्त को 3600 मीटर में अपना बेस कैंप बनाया। 14 अगस्त से समिट शुरू कर 15 अगस्त दोपहर एक बजे एल्ब्रुस की चोटी पर टीम ने तिरंगा लहराया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी संकल्प कोचिंग के बच्चों को शाबाशी दें, JEE Mains में 13 बच्चे लेकर आए रिकॉर्ड अंक

यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी पर तिरंगा फहरा कर आजादी का जश्न मनाने वाली टीम में चार लोग शामिल थे। क्लाइम्बिंग बियॉन्ड द समिट्स (सीबीटीएस) की ओर से आयोजित इस टीम को शीतल ही लीड कर रही थीं। शीतल ने बताया कि 48 घंटे के अंदर बेस कैंप से समिट करना बहुत ही मुश्किल था।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: उत्तराखंड राज्य में भी लागू होगा जनसंख्या नियंत्रण कानून

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी चोरगलिया: नाले में बह गई दरोगा की कार,गनीमत रही कि एन वक्त पर शीशा तोड़ दिया…

बता दें कि शीतल और उसकी टीम द्वारा उत्तराखंड के हिमालय में पर्याप्त ट्रेनिंग करने का ही नतीजा था की आरोहण सफल रहा। एल्ब्रुस की बात करें तो ये एक सुप्त ज्वालामुखी है, जो कॉकस क्षेत्र की कॉकस पर्वत शृंखला में स्थित है। इसके दो शिखर हैं, पश्चिमी शिखर 5642 मीटर यानी 18590 फिट ऊंचा है। पूर्वी शिखर उससे कम 5621 मीटर यानी 18442 फिट ऊंचा है।

यह भी पढ़ें 👉  अपने बर्थडे पर CM धामी ने लाखों बेरोजगार युवाओं को दिया गिफ्ट, परीक्षाओं की आवेदन फीस कर दी माफ

शीतल राज गरीब परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनके पिता उमाशंकर राज टैक्सी चलाकर परिवार का पालन पोषण करते हैं। वह टैक्सी चलाकर महीने में किसी तरह छह-सात हजार रुपए कमा पाते हैं। मगर उन्होंने बेटी के सपनों को कभी भी आगे बढ़ाने से नहीं रोका। शीतल का सहयोग कई संस्थाओ ने किया है। शीतल दुनिया की 14 सबसे ऊंची आठ हजार मीटर ऊंचे पर्वत और दुनिया के सातों महाद्वीपों की ऊंची चोटियों पर देश का झंडा फहराना है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पुलिस को सलाम, इन जांबाजों को मिला राष्ट्रपति पुलिस पदक

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की अंकिता ध्यानी और अनु कुमार का वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए टीम इंडिया में चयन

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top