Ad
Champawat News

चंपावत के स्कूल में बच्चों ने SC भोजनमाता के हाथों से बना खाना खाने से किया मना

File Photo
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

चंपावत: सूखीढांग से एक गंभीर मामला सामने आया है। यहां पर जीआईसी के कुछ बच्चों ने मध्यान्ह भोजन योजना के तहत मिलने वाले भोजन को खाने से मना कर दिया है। आरोप है कि सवर्ण जाति के बच्चे अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों बनाया खाना नहीं खा रहे हैं। ये बच्चे छठीं से आठवीं कक्षा के बताए जा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक स्कूल प्रशासन ने इन बच्चों को चेतावनी देते हुए इनकी टीसी भी काटी है। हालांकि प्रधानाचार्य प्रेम सिंह ने गुरुवार को अभिभावकों की बैठक बुलाई मगर इसमें कोई फैसला नहीं हो सका। बताया जा रहा है कि इस हफ्ते में सात से दस बच्चों ने भोजन करने से मना किया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने जारी किया एग्जाम कैलेंडर लेकिन इन परीक्षाओं के लिए करना होगा इंतजार

प्रधानाचार्य और शिक्षकों द्वारा बच्चों को समझाने के बाद भी वह घरेलू कारणों की दलील दे रहे हैं। इसलिए फिलहाल स्कूल प्रशासन ने छात्रों को अभिभावकों के आने और भोजन न करने तक स्कूल आने से रोक लगा दी है। बीते दिन हुई बैठक में अभिभावकों का कहना था कि भोजन ना करने के पीछे जातिगत नहीं निजी कारण है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में नया नियम, पेट्रोल पंपों पर नहीं चलेगा गूगल पे और फोन पे

गौरतलब है कि स्कूल में दो सवर्ण और एक दलित भोजनमाता है। जीआईसी के प्रधानाचार्य प्रेम सिंह ने बताया कि कुछ दिनों से सात से दस बच्चे अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथ का बना खाना नहीं खा रहे हैं। लेकिन दूसरी भोजनमाता खाना बनाती हैं तो ये खा लेते हैं। ऐसा करने से सामाजिक सौहार्द बिगड़ता है। बैठक में भी कोई नतीजा नहीं निकला।

यह भी पढ़ें 👉  रामनगर: बरसाती नाले में बह गई पर्यटकों की कार, भगवान बनकर आए ग्रामीण

प्रधानाचार्च ने बताया कि सिर्फ चेतावनी के लिए कुछ बच्चों को टीसी दी थी। किसी का भी नाम नहीं काटा गया है। पूरे मामले की जानकारी विभागीय उच्चाधिकारियों को दे दी गई है। सीईओ चंपावत जितेंद्र सक्सेना ने जानकारी दी और बताया कि एमडीएम विवाद की लिखित जानकारी नहीं मिली है। प्रधानाचार्य से जानकारी प्राप्त होते ही नियमानुसार कार्रवाई होगी। 

Join-WhatsApp-Group
To Top