Haridwar News

हरिद्वार महाकुंभ कोरोना टेस्ट भष्टाचार मामले में दो डॉक्टर सस्पेंड, नाम देखिए…


Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून:महाकुंभ के आयोजन ने पूरे देश में उत्तराखंड सरकार की किरकरी की थी। कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा था और राज्य में कुंभ हो रहा था। तमाम कोशिशों के बाद कोरोना वायरस के मामलों की रफ्तार कम नहीं हो रही थी। चौकानी वाली बात ये थी कि हरिद्वार में दूसरे जिलों की तुलना में कोरोना केस कम आ रहे थे जो चौकाने वाले थे। कुंभ के समाप्त होने के बाद फर्जी कोरोना टेस्ट होने की तस्वीर सामने आई। मामला कोर्ट तक पहुंचा और सरकार जांच कमेटी भी बनाई। इस खेल में शामिल होने वालों पर कार्रवाई शुरू हो गई है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर हरिद्वार महाकुम्भ, 2021 में कोविड-19 की फर्जी रैपिड एन्टीजन टेस्टिंग प्रकरण में दो अधिकारियों को निलम्बित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार व लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस मामले में दोषी पाए जाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
       

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: भाजपा के हर घर तिरंगा कार्यक्रम में दो नेताओं के बीच हुआ विवाद... फायरिंग से फैली सनसनी

जिलाधिकारी हरिद्वार द्वारा मुख्य विकास अधिकारी, हरिद्वार की अध्यक्षता में गठित जांच समिति की प्राप्त आख्या दिनांक 16.08.2021 के क्रम में सम्बन्धित फर्मों के साथ गठजोड़ व राज्य को वित्तीय हानि पहुंचाने तथा अनुशासनहीनता व बरती गयी लापरवाही के सम्बन्ध में अनुशासनिक कार्यवाही प्रस्तावित की गई है। डा अर्जुन सिंह सेंगर, तत्कालीन मेला अधिकारी (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य), कुम्भ मेला, हरिद्वार व डा एनके त्यागी, तत्कालीन प्रभारी अधिकारी (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य), कुम्भ मेला, हरिद्वार को निलंबित किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: भाजपा के हर घर तिरंगा कार्यक्रम में दो नेताओं के बीच हुआ विवाद... फायरिंग से फैली सनसनी

हरिद्वार महाकुम्भ, 2021 में कोविड-19 की फर्जी रैपिड एन्टीजन टेस्टिंग प्रकरण में सम्बन्धित फर्मों के विरुद्ध यथा प्रक्रिया विधिक कार्यवाही किये जाने हेतु जनपद हरिद्वार के अन्तर्गत गठित एस.आई.टी. के माध्यम से कार्यवाही हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, जनपद- हरिद्वार को निर्देश निर्गत कर दिये गये हैं।

Join-WhatsApp-Group
To Top