Almora News

24 साल बाद रानीखेत लौटे माधो सिंह, मृतक समझकर परिवार पहले ही कर चुका है अंतिम संस्कार


a-person-came-back-home-after-24-years-of-funeral

रानीखेत: कुछ मामले चौंकाने की हद से भी आगे तक चौंका देते हैं। ये अजीबो गरीब मामला जेनौली गांव का है। जहां 24 साल बाद एक मृत व्यक्ति अपने घर लौटा है। रुकिए, चौंकने से पहले पूरी खबर पढ़ लीजिए। दरअसल सालों पहले मृत मानकर जिस लापता व्यक्ति का परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया था, वह अब वापिस लौट आया है।

दरअसल रानीखेत-खैरना स्टेट हाईवे पर स्थित जेनौली गांव निवासी 72 वर्षीय माधो सिंह करीब 24 साल पहले अपने घर से अचानक ही लापता हो गए। जब पत्‍‌नी जीवंती देवी व बेटा-बेटी समेत अन्य परिजनों द्वारा खोजबीन के बाद भी वह नहीं मिले तो सब बड़े परेशान हो गए।

यह भी पढ़ें 👉  शिक्षा विभाग ने अगले आदेश तक उत्तराखंड में बंद किए सभी स्कूल,कोरोना का खतरा बढ़ रहा है

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 24 IAS ऑफिसरों के तबादले, UPCL के मैनेजिंग डायरेक्टर बनें दीपक रावत

यह भी पढ़ें: दोनों वैक्सीन लगा ली है तो उत्तराखंड में नहीं होगी रोकटोक, गाइडलाइन जारी

इसके बाद जब घर में ईष्ट देवता की जागर लगी तो पता चला कि माधो सिंह का निधन हो चुका है। इसलिए परिवार जनों ने उनके क्रियाकर्म की सांकेतिक विधि पूरी की। साथ ही मुंडन आदि भी कर लिया। मगर माधो सिंह जिंदा थे। इस बात का पता 24 साल बाद जाकर अब लगा।

हुआ ये कि बीते दिनों अचानक रानीखेत-खैरना स्टेट हाईवे पर जेनौली गांव के समीप बेसुध हालत में व्यक्ति मिला। देखा तो वह माधो सिंह निकले। सूचना आग की तरह गांव में फैली तो परिवार संग सारे ग्रामीण मौके पर उमड़ पड़े। फिर माधो सिंह को डोली के माध्यम से उन्हें घर तक पहुंचाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर...काठगोदाम में जल्द शुरू होगा बिजली से चलनी वाली ट्रेनों का संचालन

यह भी पढ़ें: युवा साथियों के लिए खुशखबरी, उत्तराखंड में होने जा रही है 900 से ज्यादा पदों पर भर्ती

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: क्रिकेट ग्राउंडमैन अमित लाल का निधन, परिवार को है आपकी सहायता की जरूरत

प्रधान प्रतिनिधि कुबेर सिंह माहरा बताते हैं कि माधो सिंह सबको पहचान रहे थे मगर चलने फिरने में दिक्कत महसूस कर रहे थे। हालांकि वह ये जवाब नहीं दे सके कि इतने सालों बाद वापिस कैसे पहुंचे। बहरहाल परिवार द्वारा हरिद्वार में माधो सिंह का अब दोबारा नामकरण करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  एक बार फिर चर्चा में हरक सिंह रावत...बोले मुझे BJP कोर ग्रुप बैठक में नहीं बुलाया

बता दें कि नामकरण के बाद ही वह घर में प्रवेश कर सकते हैं। अभी वह घर के परिसर में ही तिरपाल लगाकर रह रहे हैं। गौरतलब है कि विधवा जीवन जी रही माधो सिंह की पत्नी अपने पति को 24 साल बाद देखकर रो पड़ी। उन्होंने अपनी एक बेटी और बेटे की परवरिश करते हुए बेटी का विवाह कराया। 30 वर्षीय बेटा भी अपने पिता को देखकर भावुक हो गया।

यह भी पढ़ें: ऑपरेशन मर्यादा: उत्तराखंड पुलिस करेगी जंगलों में पार्टी करने वालों के चालान

यह भी पढ़ें: नैनीताल बॉर्डर से 267 पर्यटक वापिस लौटाए, इधर शहर में घूम रहा था एक संक्रमित

To Top