Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी: दो महीने बाद बसों का संचालन शुरू हुआ तो 24 घंटे में घर लौट आए डेढ़ हज़ार प्रवासी


After buses started running interstate, 1500 migrants came back to Haldwani

हल्द्वानी: करीब दो महीने बाद उत्तर प्रदेश की परमिशन के साथ शुरू हुआ अंतरराज्जीय बसों का संचालन अपना असर दिखा रहा है। दरअसल संचालन शुरू होने के 24 घंटे में ही करीब डेढ़ हज़ार प्रवासी हल्द्वानी व काठगोदाम डिपो की बसों से घर लौट आए हैं।

आपको बता दें कि कोरोना के खतरे को लेकर आठ मई को उत्तरप्रदेश सरकार ने उत्तराखंड समेत अन्य राज्यों की बसों के अपनी सीमा में संचालन पर रोक लगा दी थी। जिसके बाद से ही यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। मगर अब बुधवार को यूपी से संचालन शुरू करने की अनुमति मिल गई।

यह भी पढ़ें 👉  एक बार फिर चर्चा में हरक सिंह रावत...बोले मुझे BJP कोर ग्रुप बैठक में नहीं बुलाया

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी व पहाड़ों को मिल रही घटिया चीनी, विभाग ने अब तक 86 कुंतल काली चीनी पकड़ी

यह भी पढ़ें: CBSE ने जारी किए निर्देश, स्कूलों का आकस्मिक निरीक्षण करें अधिकारी, जानें क्यों…

जिसके बाद शाम को ही कुछ बसें दिल्ली, दून व अन्य जगहों के लिए रवाना हुईं। जानकारी के अनुसार गुरुवार शाम होने तक हल्द्वानी डिपो से करीब दर्जन बसें और काठगोदाम डिपो से करीब दस बसें दिल्ली व उत्तरप्रदेश रूट पर भेजी गईं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में होगी महानगरों की तरह पुलिस पेट्रोलिंग, पूरे शहर में घूमेगी डायल 112 स्कॉर्पियो

लिहाजा संचालन शुरू होने के बाद प्रवासियों ने घरों को लौटना शुरू कर दिया है। निगम अफसरों के मुताबिक यात्रियों की संख्या के साथ बसों का संचालन होगा। सवारियों के हिसाब से बसों के रूट तय होंगे।

इधर, आरएम यशपाल सिंह ने कहा कि आदेश मिल चुके हैं। जिसके तहत जहां की सवारी बस स्टेशन पर मौजूद होगी, पहले बसों को वहां के लिए ही रवाना करना होगा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी टी-20 कप में दीक्षांशु नेगी ने जड़ा ताबड़तोड़ शतक, जड़ डाले 15 छक्के- वीडियो देखें

यह भी पढ़ें: मसूरी कैंपटी फॉल: पर्यटकों, आपको घूमने की इजाज़त दी गई थी कोविड नियमों की धजिज्यां उड़ाने की नहीं

यह भी पढ़ें: बदरीनाथ और गौरीकुंड हाईवे पर बनाए गए डेंजर जोन, हर पल तैनात रहेगी एंबुलेंस

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: हरकी पैड़ी में हुक्का पी रहे युवकों की तीर्थ पुरोहितों ने कर दी पिटाई

यह भी पढ़ें: 100 दिन बाद उत्तराखंड में आई हैप्पी न्यूज, कोरोना से मौत का एक भी मामला नहीं…

To Top