Dehradun News

उत्तराखंड: Emergency नहीं तो मत कराएं सामान्य ऑपरेशन, AIIMS के डॉक्टर ने बताया कारण


उत्तराखंड: Emergency नहीं तो मत कराएं सामान्य ऑपरेशन, AIIMS के डॉक्टर ने बताया कारण

ऋषिकेश: कोरोना संक्रमण के कारण अस्पतालों पर सबसे अधिक संकट है। हो यह रहा है कि जिस भी जगह संक्रमण से ग्रसित गंभीर मरीजों का इलाज हो रहा है। वहां अन्य आम मरीजों पर इतना ध्यान नहीं जा पा रहा है। अब एम्स के डॉक्टर ने आम मरीजों को ऑपरेशन के बारे में सलाह दी हैं। उनका कहना है कि इस कठिन वक्त में बेहतर यही होगा कि केवल वही लोग ऑपरेशन कराएं जिन्हें इमरजेंसी है।

राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले पिछले कुछ दिनों में खासा कम हुए हैं। पर्वतीय जिलों की अपेक्षा मैदानी जिलों में पॉजिटिविटी रेट काफी कम हो गया है। मगर चिंता की बात गंभीर संक्रमण के मामलों का ना घटना है। अब सरकारी अस्पतालों ने मरीजों की संक्रमण से सुरक्षा के मद्देनजर इलेक्टिव (सामान्य) ऑपरेशन बंद कर दिए हैं। हालांकि इमरजेंसी ऑपरेशन किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  टी-20 विश्वकप में भारत की हार के बाद उत्तराखंड में क्रिकेट फैंस ने तोड़ा TV, वीडियो हुआ वायरल

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. बीके बस्तिया ने सभी जनता से अपील की है। उनका कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर काफी घातक है जिस कारण काफी संख्या में गंभीर मरीज निकल रहे हैं। इसलिए मौजूदा हालातों में इलेक्टिव (सामान्य) ऑपरेशन को चिकित्सक की सलाह पर तीन से चार हफ्तों तक टाला जा सकता है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में अब Half मास्क पहनने वालों का कटेगा फुल चालान

यह भी पढ़ें 👉  धनतेरस पर हल्द्वानी शहर को बनाया जाएगा जीरो जोन, कुछ ऐसा होगा ट्रैफिक प्लान

यह भी पढ़ें: वीडियो कांफ्रेंस खत्म, सीएम रावत ने जिलाधिकारियों दी अहम जिम्मेदारी, पढ़ें

डॉ. बीके बस्तिया ने इसके पीछे का कारण ऑपरेशन के बाद घटने वाली मरीज की इम्यूनिटी को बताया। दरअसल आपरेशन से इंसान की रोग प्रतिरोध क्षमता कम हो जाती है। जिससे कोरोना संक्रमण होने का खतरा भी बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में इस समय केवल इमरजेंसी (लाइफ सेविंग) ऑपरेशन को प्राथमिकता दी जा रही है ताकि कोरोना संक्रमितों को बेहतर इलाज मिल सके।

हालांकि डॉ. बस्तिया ने यह भी कहा कि चिकित्सकों की सलाह पर सामान्य ऑपरेशन वाले मरीजों को जरूरी दवाएं लेते रहना चाहिए। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सिट्रस फल जैसे नींबू, संतरा, अंगूर खाना चाहिए। रिकवरी में ब्रोकली भी फायदेमंद है। इसमें विटामिन सी, ई और ए की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा ऑपरेशन करा कर आए लोग तुलसी का सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  यात्रियों की टेंशन खत्म, हल्द्वानी से नैनीताल के लिए रोडवेज बस सेवा शुरू

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में एक बार फिर 8 हजार से ज्यादा मरीज ठीक हुए

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार ने कोरोना की वजह से अनाथ हुए बच्चों के लिए की घोषणा

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: महामारी ने हल्की कर दी ट्रेनों की गति,एक महीने में रेलवे के लाखों टिकट रद्द

यह भी पढ़ें: क्रिकेटर अनुज रावत ने की नैनीताल पुलिस की मदद,एक लाख रुपए की फेस शील्ड बांटी

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top