Uttarakhand News

थलीसैंण पहुंचे शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत, बच्चों के साथ दरी में बैठकर खाया भात-दाल


देहरादून: एक अच्छा इंसान हमेशा एक अच्छा लीडर होता है। सूबे के शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत इस कथन का जीता जागता उदाहरण हैं। वह ना केवल अपनी तत्परता, अनुशासन और सक्रियता से जनता के प्रिय हैं बल्कि एक नेक दिल इंसान होने के कारण भी उन्हें काफी माना जाता है। थलीसैंण प्रवास के दौरान धन सिंह रावत का एक अंदाज लोगों को खूब भा गया। वह कुचोली के एक स्कूल में बच्चों के साथ लंच करने बैठ गए, जिसके बाद कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं।

डॉ. धन सिंह रावत के बारे में कहा जाता है कि वह जमीन से जुड़े नेता हैं। वो नेता, जो एसी कमरे में बैठकर सुस्ताने में विश्वास नहीं रखते बल्कि हर दिन धरातल पर जाकर लोगों की समस्याएं सुनते हैं, विकास संबंधी कार्य करते हैं। बीते कुछ दिनों से धन सिंह रावत थलीसैंण तथा पास के क्षेत्रों के भ्रमण पर हैं। इस दौरान उन्होंने कई कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण भी किया।

ऐसे में शुक्रवार को धन सिंह रावत प्राथमिक विद्यालय कुचोली पहुंचे, जहां उन्होंने विद्यालय के अतिरिक्त कक्षा-कक्ष एवं भवन के सौंदर्यीकरण कार्यों का शिलान्यास तथा लोकार्पण किया। इसके उपरांत उन्होंने राजकीय प्राथमिक विद्यालय कुचोली के भवन एवं बाल वाटिका निर्माण कार्यों का भी शिलान्यास किया। खास बात तब रही जब कैबिनेट मंत्री बच्चों से मुलाकात करते हुए दिखे।

उन्होंने बच्चों से स्कूल में पढ़ाई का उनका अनुभव जाना और बच्चों संग खूब ठहाके भी लगाए। कैबिनेट मंत्री ने भेंट के बाद बच्चों के साथ ही भोजन भी किया। वह विद्यार्थियों के साथ नीचे जमीन पर ही बैठकर भोजन कर रहे थे। यह तस्वीर जैसे ही सोशल मीडिया पर सामने आई, वैसे ही वायरल हो गई। लोगों का कहना है कि नेता धन सिंह रावत जैसे होने चाहिए, जिन्हें अपनी जड़ें पता हैं।

जानकारी के अनुसार धन सिंह रावत ने भोजन करने के बारे में पहले से विद्यालय को सूचित नहीं किया था। उन्होंने वही खाना खाया, जिसे बच्चों के लिए तैयार किया गया था। वाकई भारत और उत्तराखंड के भविष्य, यानी छोटे बच्चों के साथ खुशी के पल कैबिनेट मंत्री के लिए भी विशेष रहे होंगे। इसमें कोई दोराय नहीं कि धन सिंह रावत ने अपनी सरलता और सादगी का एक और उदाहरण दिया। उन्होंने फिर यह सिद्ध कर दिया कि उन्हें जनता का मसीहा क्यों कहा जाता है।

To Top