Nainital-Haldwani News

चालकों की कमी बनी हल्द्वानी से सवार होने यात्रियों के लिए सिर दर्द, 100 बसें भी नहीं चल रही हैं


यात्रियों की संख्या बढ़ने पर हल्द्वानी डिपो से एक दिन में संचालित हुईं 55 बसें

हल्द्वानी: पहले से ही करोड़ों के घाटे में चल रहे रोडवेज को दिक्कत एक नहीं कई सारी हैं। अब बस चालकों व परिचालकों की कमी भी होने लगी है। रोडवेज के पास बसें हैं मगर फिर भी स्टाफ की कमी से हर महीने करीब 200 बसें रूट पर नहीं जा पाती। हल्द्वानी डिपो की ही 100 गाड़ियां इसमें शामिल हैं।

नैनीताल रीजन की बात करें तो आठ डिपो में कुल 395 बसों के लिए 841 चालकों की जरूरत है। ये परिवहन विभाग का फॉर्मूला कहता है। लेकिन निगम अगर नियमित, संविदा, विशेष श्रेणी के सभी चालक मिला भी ले तो भी केवल 755 चालक ही हैं। नैनीताल रीजन के आठ डिपो में 86 चालकों के पद खाली हैं।

यह भी पढ़ें 👉  BSP ने जारी की प्रत्याशियों की पहली लिस्ट, हल्द्वानी से जितेंद्र को मिला टिकट

यह भी पढ़ें: टिहरी गढ़वाल निवासी युवक को अदालत ने मृत्युदंड की सजा सुनाई

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में बारिश का येलो अलर्ट,आपातकाल हेतु हेलीकॉप्टर भी हुए तैनात

यही प्रमुख कारण है कि कई रूट पर बसें जा नहीं पाती। जिससे घाटा बढ़ता रहता है। इसके अलावा कर्मचारी संगठनों की बैठक, आंदोलन और स्टाफ के अवकाश के कारण भी परेशानी होती है। पिछले साढ़े तीन साल से मृतक आश्रित कोर्ट में भर्ती नहीं होने के कारण दिक्कत और बढ़ रही है। डिपोवार ब्योरा देने के बावजूद मुख्यालय से कोई मदद नहीं मिली।

इसके अलावा रोडवेज निगम की व्यवस्था के हिसाब से लोकल रूट पर भले ही एक चालक पूरे दिन ड्यूटी कर ले मगर दिल्ली जैसे लंबे रूटों से लौटने के बाद ड्राइवर को वन डे ड्यूटी रेस्ट देना अनिवार्य होता है। साथ ही लंबे रूटों पर दो चालक भेजे जाते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  आचार संहिता में चरस तस्करी,हल्द्वानी में एक किलो की चरस के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: MBPG छात्रसंघ के पूर्व उप सचिव रवि यादव की पुण्यतिथि,जनसेवा के सपनें को पूरा कर रही है टीम रोटी बैंक

यह भी पढ़ें: पढ़ने की उम्र में परिवार का पेट पाल रही है नन्ही बिटिया शोभा भट्ट,आइए मदद करते हैं

हालांकि हफ्ते में एक दिन का अवकाश हर चालक के लिए होता है। मगर इसमें भी हाल ही में मुख्यालय ने आदेश दिए थे कि चालकों का वीकली ऑफ पेंडिंग न रखा जाए। वरना एक साथ कई चालक अवकाश ले लेते हैं और निगम को घाटा उठाना पड़ता है।

यह भी पढ़ें 👉  शनिवार को हल्द्वानी रहेगा बंद, कोरोना वायरस के मामले बढ़ने पर प्रशासन ने लिया फैसला

परिचालकों के लिहाज से भी नैनीताल रीजन के आठ डिपो में दिक्कतें हैं। 50 पद लंबे समय से खाली हैं। दूसरी बात ये है कि ई-टिकट मशीन खराब होने के कारण कई परिचालक रूट पर नहीं जाना चाहते। जिससे फिर घाटा होता है। आरएम कुमाऊं यशपाल सिंह के मुताबिक चालक के अलावा परिचालकों की कमी की रिपोर्ट मुख्यालय तक भेज दी गई है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार ने की कई बड़ी घोषणाएं, बिजली बिलों में इन लोगों को मिलेगा फायदा

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: पत्नी के साथ बाजार गए युवक का हुआ प्रेमिका से सामना, चप्पलों से हो गई पिटाई

To Top