Uttarakhand News

उत्तराखंड में हड़ताल से बस यात्रियों को परेशानी हुई तो सस्पेंड कर दिए जाएंगे रोडवेज कर्मचारी



देहरादून: अगर रोडवेज के संविदा और विशेष श्रेणी कर्मचारियों की आगामी हड़ताल से कोई भी बस सेवा निरस्त होती है तो उकी खैर नहीं होगी। जी हां, मुख्यालय किसी भी तरह से यात्रियों को परेशानी में नहीं धकेलना चाहता। इसलिए हड़ताल के कारण बस सेवा निरस्त होने की स्थिति में कर्मचारी को सीधा बर्खास्त किया जाएगा। बता दें कि उक्त कर्मियों की बेमियादी हड़ताल 19 अक्टूबर से प्रस्तावित है।

Ad

रोडवेज मुख्यालय की तरफ से महाप्रबंधक दीपक जैन ने सभी मंडल और डिपो प्रबंधक को तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि कई महीनों से नियमित होने व समान वेतन के लिए रोडवेज संविदा-विशेष श्रेणी कर्मचारी संगठन से जुड़े कर्मचारी आंदोलनरत हैं। हाल ही में वार्ता विफल होने के बाद संगठन ने 19 अक्टूबर से बेमियादी हड़ताल का ऐलान कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  अगर कांग्रेस में नहीं तो क्या फिर भाजपा में शामिल होंगे हरक सिंह रावत ? दिल्ली में डाला डेरा...

हर किसी को पता है कि रोडवेज घाटे में चल रहा है। साथ ही आपको बता दें कि रोडवेज में करीब 3000 संविदा व विशेष श्रेणी कर्मचारी हैं। इनमें करीब 2800 चालक-परिचालक हैं। ऐसे में आगामी त्योहारी सीजन में बस संचालन प्रभावित हुआ तो रोडवेज को लेने के देने पड़ सकते हैं। इसलिए प्रबंधन ने आंदोलन करने वाले कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: कांग्रेस के हुए हरक सिंह रावत और अनुकृति गोसाईं

रोडवेज महाप्रबंधक संचालन दीपक जैन ने कहा कि संविदा-विशेष श्रेणी संगठन के कार्य बहिष्कार के कारण बस संचालन सुचारू रहना सुनिश्चित किया जाएगा। चालक-परिचालकों की अतिरिक्त व्यवस्था को कहा गया है। आदेश जारी हो गए हैं कि यदि कोई बस सेवा निरस्त होती है तो उस बस पर तैनात चालक व परिचालक को तत्काल बर्खास्त कर दिया जाए।

To Top