HomeNewsHaldwani Newsनैनीताल:मानवता अभी ज़िंदा है,परिवार नहीं पहुंचा तो नगर पालिका टीम ने किया...

नैनीताल:मानवता अभी ज़िंदा है,परिवार नहीं पहुंचा तो नगर पालिका टीम ने किया व्यक्ति का अंतिम संस्कार

रामनगर: कोरोना संक्रमण ने एक और व्यक्ति की जान ले ली। जब अंतिम संस्कार की बारी आई तो परिवार से कोई आ ना सका। ऐसे में नगर पालिका की टीम ने इंसानियत का फर्ज अदा करते हुए अंतिम संस्कार कराया। खुद पालिका के ईओ ने पूरी प्रक्रिया को अंजाम दिया।

देवभूमि में कितनी ही बार हमने मानवता की कहानियां सुनी, पढ़ी और देखी हैं। इस बार नैनीताल से एक दिल जीतने वाली कहानी सामने आई है। महामारी के दौर में जहां सब तितर-बितर हो रहा है। वहां इंसानों के बीच के रिश्ते सुधर रहे हैं। पालिका की टीम द्वारा मृत संक्रमित व्यक्ति का क्रिया क्रम करना वाकई मानवता को उजागर करता है।

ग्राम टांडा बसई निवासी 40 वर्षीय संजय पाठक पुत्र नंदा बल्लभ पाठक एक रिसॉर्ट में कुक का काम करता था। लॉकडाउन के चलते कई दिनों से अपने घर पर ही था। शनिवार को उसकी तबीयत बिगड़ी तो सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसे सांस लेने में काफी तकलीफ हो रही थी। बता दें कि उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

मृतक व्यक्ति की पत्नी व दो छोटे-छोटे मासूम बच्चे हैं। पत्नी के अनुसार उसने कई परिजनों से अंतिम संस्कार करने हेतु आग्रह किया मगर कोई भी आने को तैयार नहीं हुआ। जब इसकी सूचना एसडीएम विजयनाथ शुक्ल को मिली तो उन्होंने फौरन नगर पालिका के ईओ भरत त्रिपाठी से बात की।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: 6 दिन के Curfew में इन सेवाओं को मिलेगी छूट, 15 बिंदुओं पर डाले नजर

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी समेत नैनीताल जिले के तीन शहरों में 27 अप्रैल से 3 मई तक Curfew लगाया गया

जिसके बाद ईओ भरत त्रिपाठी आगे आए और अपनी टीम के साथ अंतिम संस्कार का क्रिया कलाप पूरा कराया। बता दें कि भरत त्रिपाठी खुद कोरोना से जंग जीत कर आए हुए हैं। हालांकि इस काम में ईओ को मुश्किलें ज़रूर आईं क्योंकि शुरुआत में किसी का साथ नहीं मिल रहा था। मगर उसके बाद कुछ नेक दिल इंसानों से मदद मिली। जिसकी बदौलत अंतिम संस्कार किया गया।

अंतिम संस्कार कराने में शामिल सभासद व एम्बुलेंस चालक दीपक चन्द्र डीसी व सभासद शिवि अग्रवाल, पालिका के प्रभारी स्वस्थ निरीक्षक देवेंद्र बिष्ट उर्फ दीपू, वाहन चालक फरीद अहमद, पर्यावरण मित्र आकाश बाल्मीकि व शनि बाल्मीकि ने हाथ बंटाया। बाद में शमशान घाट पहुंचे मृतक के रिश्तेदारों ने पालिका की टीम का धन्यवाद किया।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: युद्ध स्तर पर चल रहा है काम, कुछ ही दिनों में तैयार होगा ऑक्सीजन युक्त अस्पताल

यह भी पढ़ें: शिक्षकों के साथ नहीं चलेगी स्कूल की मनमानी, घर से लेगें Classes, आदेश जारी

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 1700 से ज्यादा लोगों ने कोरोना को हराया, 163 इलाकों में लॉकडाउन

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार का आदेश जारी, शादी समारोह में केवल 50 लोग हो सकेंगे शामिल

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here