Pithoragarh News

वायरल हो गया खोला गांव का नैचुरल स्विमिंग पूल, आनंद महिंद्रा ने किया ट्वीट


Natural swimming pool of Khola village is getting viral after Anand Mahindra tweet

धारचूला: देवभूमि की सुंदरता के तारीफ के पुल तो बड़े नामी लोग भी बांधने से नहीं कतराते। इस बार उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने समुद्र तल से आठ हजार किमी की ऊंचाई पर बसे खोला गांव के नैचुरल स्विमिंग पूल की फोटो देख यहां आने की तीव्र इच्छा जताई है। उन्होंने इसे लेकर ट्वीट भी किया है।

दरअसल युवाओं ने खोला गांव के बाहर बारिंग के पास निकलने वाले प्राकृतिक जलस्रोत को पत्थर व सीमेंट की मदद से स्वीमिंग पूल का रूप दे दिया है। जहां पर खेती का काम भी हो जाता है और नहाने का भी। इसकी मदद से सिंचाई कर ग्रामीण सब्जी भी उगाते हैं।

यह भी पढ़ें: नेगेटिव रिपोर्ट,पंजीकरण व होटल बुकिंग होना अनिवार्य, नहीं तो नैनीताल में एंट्री बैन, आदेश देखें

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड की शान है ऋषभ...WTC में एक हज़ार रन पूरे करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बने पंत

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री आवास में ही रहेंगे सीएम धामी, कहते हैं यहां जो आया वो पूरा नहीं कर पाया कार्यकाल

हुआ ये कि गांव निवासी नरेश धामी ने इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट कर इस पूल की फोटो डाली। जिस पर उद्योगपति आनन्द महिंद्रा ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने इसे रीट्विट कर लिखा, ‘इसे देखने के लिए इंतजार नहीं कर सकता। मैंने ऐसा कुछ पहले नहीं देखा। अब से यह मेरी ट्रेवल बकेट लिस्ट में शामिल है।

बता दें कि इसके बाद तो खोला गांव के इस पूल की फोटो वायरल होती ही चली गई। लोग इसे शेयर कर ‘स्वर्ग में स्वीमिंग पूल’ हैशटैग लिख रहे हैं। इसे शुक्रवार रात तक 7606 लाइक मिले।

यह भी पढ़ें 👉  दुर्गा एनक्लेव कॉलोनी में सनसनी, मकान मालिक ने किरायेदार को मारी गोली, हुई मौत

यह भी पढ़ें: देहरादून:Curfew से छूट मिलते ही शुरू हो गया गंदा काम,दिल्ली से पहुंचे लड़के-लड़कियां गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: आम आदमी को लूटने चले थे दो इंजीनियर,एक लाख रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े गए

खोला गांक की बात करें तो ये धारचूला तहसील में तवाघाट से सात किमी की दूरी पर स्थित है। पहले सड़क और फिर चढ़ाई सीधा गांव तक ले जाती है। जानकारी के अनुसार एक हज़ार की आबादी वाले इस गांव से उच्च हिमालयी गांव दारमा व लिपुलेख भी जा सकते हैं। गांव के कई युवा बाहर काम करते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  एक बार फिर चर्चा में हरक सिंह रावत...बोले मुझे BJP कोर ग्रुप बैठक में नहीं बुलाया

बहरहाल गांव में पलायन का मुद्दा बड़ा है। लोगों का यहां से पलायन का कारण परिवहन, संचार और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं का ना होना ही है। बीएसएनएल का नेटवर्क ना होने से लोग नेपाली सिम का प्रयोग करते हैं। रसोई गैस सिलिंडर भी सात किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई के बाद किसी तरह गांव लाया जाता है।

यह भी पढ़ें: कैंपटी फॉल की वीडियो वायरल होने के बाद पर्यटकों पर कसा गया शिकंजा,केवल 50 लोगों को मिलेगी एंट्री,पढ़ें

यह भी पढ़ें: राशन विक्रेताओं का दोगुना हुआ लाभांश, कोरोना से मौत पर 10 लाख की मदद का फैसला

To Top