Sports News

रवि बिश्नोई ने 23 साल की उम्र में जीता भरोसा, टी-20 विश्वकप के लिए चयन तय !

Ravi Bishnoi: Cricketer: कोरोना वायरस की एंट्री से कुछ महीने पहले भारतीय अंडर-19 टीम विश्वकप खेल रही थी। उस टीम में एक लेग स्पिनर था और उसकी आक्रमकता ने सभी को प्रभावित किया था। पूर्व कप्तान अनिल कुंबले जैसी झलक थी और नाम था रवि बिश्नोई। 2020 अंडर-19 विश्वकप के बाद आईपीएल का टिकट और फिर आईपीएल में ऋषभ पंत का पहला विकेट, किसी सपने की तरह रहा था रवि का क्रिकेट करियर।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 सीरीज भारत ने 4-1 से जीती। सभी मुकाबले रोचांक रहे और रवि बिश्नोई ने कठिन समय में आकर टीम को जीत दिलाई। वो प्येलर ऑफ द सीरीज़ रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच मुकाबलों की सीरीज़ में रवि ने कुल 9 विकेट अपने नाम किए। इसके साथ ही उन्होंने कुछ रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं जो कागजों में उन्हें एक शानदार स्पिनर साबित करते हैं।

फरवरी में टी20 में टीम इंडिया में डेब्यू करने वाले बिश्नोई ने महज 10 महीने में टीम इंडिया के आर अश्विन के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 मुकाबलों में रवि बिश्नोई ने 9 विकेट अपने नाम किए। वो किसी एक द्विपक्षीय सीरीज में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं। रवि बिश्नोई ने आर अश्विन की बराबरी कर ली है। अश्विन ने साल 2016 में यह कारनामा किया था। अश्विन ने टी20 डेब्यू के 6 साल बाद यह उपलब्धि हासिल की थी जबकि बिश्नोई ने 10 महीनों में ही ये कमाल कर दिखाया है।

रवि रवि बिश्नोई तेज गति से गेंद डालते हैं। यहीं वजह है कि उन्हें विकेट से ड्रिफ्ट मिलता है। रवि बिश्वोई का ये फॉर्म उन्हें टी-20 विश्वकप का अहम दावेदार बना रहा है। अगर आप उनकी सीट को पक्का मानते हैं तो गलत नहीं होगा।

To Top
Ad