Nainital-Haldwani News

सुशीला तिवारी अस्पताल के डॉक्टरों का आभार, 850 ग्राम के नवजात को दी नई जिंदगी


सुशीला तिवारी अस्पताल के डॉक्टरों का आभार, 850 ग्राम के नवजात को दी नई जिंदगी

हल्द्वानी: चिकित्सक भगवान का रूप होते हैं। सुशीला तिवारी अस्पताल की डॉक्टरों की टीम ने भी एक ईश्वरीय कार्य किया है। एक नवजात शिशु को नई जिंदगी मिली है। 850 ग्राम के नवजात को स्वस्थ प्रसव के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है।

Ad

हल्द्वानी का सुशीला तिवारी अस्पताल अधिकतर खराब कारणों या विवादों के चलते प्रकाश में रहता है। मगर ये जरूरी है कि अस्पताल में होने वाले अच्छे कामों को भी रौशनी में लाया जाए। इस बार अस्पताल के डॉक्टरों ने नन्ही जान को तो बचाया ही साथ ही उसके परिवार को खुशी क पल दिए हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य का निधन, सीएम धामी ने किया ट्वीट

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से भाजपा के जोगिंदर रौतेला ने भरा नामांकन, बोले मैं एक खुली किताब हूं...

यह भी पढ़ें: मलवा आने से एक बार फिर बंद हुआ वीरभट्टी पुल, नैनीताल होते हुए यात्रा पूरी करनी पड़ेगी

दरअसल बीते महीने हल्द्वानी की एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया। चिंताजनक बात ये रही कि बच्चे का वजन मात्र 850 ग्राम था। बाल रोग विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डा. ऋतु रखोलिया के मुताबिक इतने कम वजन वाले बच्चों में कई तरह की दिक्कतें रहती हैं।

लाजमी है कि कोरोना संक्रमण के दौर में भी अस्पताल में भर्ती कर बच्चे को हर तरह से सुरक्षित रखना टीम के लिए बड़ी चुनौती थी। मगर ये सहयोगियों की टीम की मेहनत ही थी कि नवजात अब स्वस्थ हो गया है। 1.20 किलोग्राम वजन होने के बाद उसे डेढ़ महीने बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में भाजपा को झटका, विधायक ने किया निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान

यह भी पढ़ें: ट्विटर पर एक व्यक्ति ने सोनू सूद से मांगे एक करोड़ रुपए, एक्टर ने कहा बस इतने ही…

यह भी पढ़ें: रुद्रपुर पहुंचे टोक्यो के हीरो सिमरनजीत सिंह, ओलंपिक पदक जीतने के लम्हे को किया याद

डा. रखोलिया ने बताया कि सात दिन तक वेंटीलेटर में रखने के बाद नवजात का वजन बढ़ाना जरूरी था। इसलिए उसे दिनों तक पेट में नली द्वारा दूध दिया गया। संक्रमण से बचाने के लिए विशेष इंतजाम किए गए। उसे शिशु सिक नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एसएनसीयू) में डेढ़ माह के लिए रखा गया।

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा ने काटा कुमाऊं के दो सीटिंग विधायकों का टिकट, नए चेहरों को मिली जिम्मेदारी

प्राचार्य प्रो. अरुण जोशी ने इसे खुशी का क्षण बताया है। उन्होंने कहा कि मरीजों को बेहतर इलाज देने के लिए अस्पताल प्रबंधन प्रतिबद्ध हैं। बता दें कि टीम में डा. गुरप्रीत, डा. स्वाति, डा. श्रद्वा, सिस्टर ऋचा, ममता, अनीता ने बच्चे का खास ध्यान रखा।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी की छह सड़कें होंगी टनाटन,जारी हुआ आठ करोड़ रुपए का बजट

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी जेल में बंद कैदियों को मिलेंगे स्मार्ट कार्ड, हर महीने कर सकेंगे हजारों रुपए की शॉपिंग

To Top