Uttarakhand News

उत्तराखंड:कैंसर से भी गंभीर बीमारी से जूझ रही है 7 महीने की मासूम अक्षिता,आइए मिलकर करें मदद


Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: अक्षिता को बचाना है। सात महीने की नन्ही मासूम अक्षिता हमसे और आपसे जीवन की गुहार लगा रही है। जीवन मांगे अक्षिता की इस मुहिम के साथ आप सब से विनती करते हैं कि मदद के लिए आगे आएं और एक भयानक बीमारी से गुजर रही अक्षिता को जिंदगी देने के लिए सहयोग करें।

दरअसल सात महीने की अक्षिता राणा को एक ऐसी असाध्य बीमारी है, जिसे डॉक्टरों की भाषा में जेनेटिक स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी कहा जाता है। गौरतलब है कि यह बीमारी कैंसर से ज्यादा खतरनाक बीमारी मानी जाती है। कहा जाता है कि इसमे मांसपेशियां कमजोर हो जाती है।

यह भी पढ़ें 👉  बदल रहा है उत्तराखंड, आंगनवाड़ी बहनों को मिला तीलू रौतेली पुरस्कार

इसके अलावा इस रोग से पीड़ित मरीज को सांस लेने में भी बहुत तकलीफ होती है। अक्षिता के इलाज में पेंच आर्थिक स्थिति का है। दरअसल इस बीमारी का इलाज दुनिया का सबसे महंगा इलाज है। बता दें कि इसके लिए इस्तेमाल होने वाला इंजेक्शन 16 करोड रुपए में आता है और यह मात्र इंजेक्शन है जो अक्षिता को बचा सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  पेपर लीक मामले के बाद उत्तराखंड शासन ने UKSSSC के सचिव को पद से हटाया

अक्षिता की मां सरिता राणा ने बताया कि बेटी को दिक्कतें होने के बाद डॉक्टरों को दिखाया तो पता चला की उसे एसएमए टाइप 1 की बीमारी है। सांस लेने में दिक्कत थी इसलिए एडमिट करने के बाद चिकित्सकों ने उसे डिस्चार्ज कर दिया। सरिता राणा ने बताया कि डॉक्टरों ने इसे लाइलाज बीमारी कहा था।

ऐसे में 16 करोड़ रुपए का इंतजाम करना एक आम परिवार के लिए बहुत मुश्किल है। अक्षिता की मां सरिता राणा और पिता भूपेंद्र सिंह राणा ने देवभूमि व देशभर की जनता से मदद की अपील की है। हल्द्वानी लाइव भी आप सभी से अपील करता है कि जितना भी हो सके मदद का हाथ बढ़ाए। एक छोटी सी सहायता भी अक्षिता की जिंदगी के लिए संजीवनी साबित हो सकती है।

यह भी पढ़ें 👉  दुनिया भर में ऋषभ पंत ने बढ़ाया उत्तराखंड का मान, सीएम धामी ने किया सम्मान

खाताधारक : अक्षिता राणा
खाता संख्या : 700701717154633
IFSC कोड : YESB0CMSNOC ( B के बाद जीरो है और N के बाद O फॉर Orange)
मोबाइल/गूगल/फोन पे नंबर : 8755666301

Join-WhatsApp-Group
To Top