Uttarakhand News

उत्तराखंड: मलबे में ढाई घंटे दबे रहे 75 वर्षीय गैणा सिंह ने मौत के मुंह से छीनी जिंदगी


उत्तराखंड: मलबे में ढाई घंटे दबे रहे 75 वर्षीय गैणा सिंह ने मौत के मुंह से छीनी जिंदगी

उत्तरकाशी: जीवन का चक्र कब शुरू होकर कब खत्म होगा, ये भगवान के सिवाय कोई नहीं जानता। मांडो गांव में बादल फटने से हुई तबाही में 75 वर्षीय गैणा सिंह मलबे में करीब ढाई घंटे दबे रहे। उम्मीद के विपरीत जब रेस्क्यू टीम ने मलवा हटाकर रेस्क्यू किया तो वे जीवित थे। मौत को मात देने की ये कहानी खूब चर्चा में है।

आपको याद होगा बीते रविवार को रात करीब 8.30 बजे उत्तरकाशी के मांडो गांव में बादल फटा। जिस कारण पानी और मलबे ने कई घरों को तबाह कर दिया। जानकारी के अनुसार इस घटना में तीन शव भी बरामद हुए। माहौल प्रलय से कम नहीं रहा होगा। लोग जिंदगी बचाने के लिए जूझ रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा से हल्द्वानी यात्रा के लिए इन मार्गों को खोला गया, हेल्पलाइन नंबर भी जारी

इसी दौरान अपने भाई के बच्चों के साथ जीवन बिताने वाले गांव के ही 75 वर्षीय बुजुर्ग गैणा सिंह घर में सो रहे थे। उनके घर को भी मलबे व पानी ने तहस नहस कर दिया। गैणा सिंह के भतीजे ने उन्हें बचाने की कोशिश की तो वह पानी की चपेट में आ गया। गनीमत रही कि बाकी लोगों ने उसे बचा लिया।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 24 IAS ऑफिसरों के तबादले, UPCL के मैनेजिंग डायरेक्टर बनें दीपक रावत

यह भी पढ़ें: दोनों वैक्सीन लगा ली है तो उत्तराखंड में नहीं होगी रोकटोक, गाइडलाइन जारी

यह भी पढ़ें 👉  छोटे वाहनों के लिए जल्द शुरू होगा गौलापुल, सीएम धामी एक बार फिर निरीक्षण करने पहुंचे

लेकिन गैणा सिंह मलबे से दबे घर में ही फंसे रह गए। ढाई घंटे बाद माहौल शांत हुआ तो ग्रामीणों की जानकारी के बाद युवाओं और पुलिस जवानों ने बुजुर्ग को बाहर निकालने के लिए मलबे से पटा दरवाजा खोलने की कोशिश की। मगर असफल रहने के बाद उन्होंने पीछे का दरवाजा तोड़कर बुजुर्ग को बाहर निकाला।

बहरहाल बुजुर्ग को बाहर निकालने के बाद उन्हें 108 सेवा की मदद से अस्पताल भेजा गया। बता दें कि ढाई घंटे मलबे से दबे रहने के बावजूद 75 साल के बुजुर्ग ने मौत को मात दी। इतना ही नहीं वह सुरक्षित अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए हैं। यह खबर पूरे क्षेत्र व आसपास में चर्चा का विषय बनी हुई है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में पहली बार...अब पहाड़ी मार्गों पर दौड़ेंगी चार पहियों वाली खास बसें

यह भी पढ़ें: युवा साथियों के लिए खुशखबरी, उत्तराखंड में होने जा रही है 900 से ज्यादा पदों पर भर्ती

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: क्रिकेट ग्राउंडमैन अमित लाल का निधन, परिवार को है आपकी सहायता की जरूरत

यह भी पढ़ें: ऑपरेशन मर्यादा: उत्तराखंड पुलिस करेगी जंगलों में पार्टी करने वालों के चालान

यह भी पढ़ें: नैनीताल बॉर्डर से 267 पर्यटक वापिस लौटाए, इधर शहर में घूम रहा था एक संक्रमित

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top