Sports News

उत्तराखंड पहुंची हॉकी स्टार वंदना कटारिया, एयरपोर्ट पर पापा को याद कर हुईं भावुक


उत्तराखंड पहुंची हॉकी स्टार वंदना कटारिया, एयरपोर्ट पर पापा को याद कर हुईं भावुक

देहरादून: इतिहास रच कर वतन लौटीं हॉकी की स्टार खिलाड़ी वंदना कटारिया जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंची तो आंखों में आंसु साफ नजर आए। एक तरफ शानदार खेल दिखाकर घर लौटने की खुशी तो दूसरी तरफ अपने पिता को याद करते हुए वंदना भावुक हो गईं।

टोक्यो ओलंपिक में वंदना कटारिया उस भारतीय महिला हॉकी टीम का हिस्सा थीं जो कि पहली बार ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची थी। हालांकि भारतीय टीम कोई मेडल अपने नाम नहीं कर सकी लेकिन टीम ने हर देशवासी का दिल जरूर जीता।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में PCS के 224 पदों पर निकली भर्ती, 30 अगस्त है लास्ट डेट

यह भी पढ़ें: रुद्रपुर की महिलाओं को मंडुए के बिस्कुट ने दी पहचान,PM मोदी फोन पर जानेंगे लाखों के टर्नओवर का राज

यह भी पढ़ें 👉  टीपी नगर निवासी स्पा सेंटर मालिक ने खुद को मारी गोली, मचा हड़कंप

वंदना ने एक मुकाबले में हैट्रिक गोल कर इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करा दिया। बहरहाल अभी कुछ देर पहली ही जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंची वंदना कटारिया ने सबसे पहले अपने पापा को याद किया। बता दें कि वंदना के पिता मई में हृदयगति रुकने के कारण उन्हें अलविदा कह गए थे।

इस मौके पर वंदना ने कहा कि वह अपने पिता को मिस कर रही हैं। वह जब भी घर वापस आती थी तो उनके मना करने के बावजूद भी उनके पिता एयरपोर्ट पर बाहर खड़े उन्हें मिलते थे। पर, वह अभी दुनिया में नहीं हैं। उन्होंने कहा घर जाना और वहां पिता की मौजूदगी ना होना बहुत मुश्किल रहने वाला है।

यह भी पढ़ें 👉  गुरू मां डेंटल क्लिनिक दे रहा है नौकरी का मौका, इच्छुक तुरंत करें अप्लाई

यह भी पढ़ें: वायरल हुआ “प्यारी पहाड़न रेस्त्रां”…संचालिका प्रीति को आया PMO से कॉल

यह भी पढ़ें: कमाल का ऑफर,नीरज या वंदना है आपका नाम तो फ्री में कर सकेंगे चंडी देवी मंदिर के लिए रोपवे का सफर

जिस वक्त वंदना के पिता की मृत्यु हुई, उस वक्त वंदना बैंगलुरू में टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों में जुटी हुई थीं। पिता ने वंदना के सपनों को उड़ान देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। वंदना के पिता का सपना था कि बेटी एक दिन भारत के लिए ओलंपिक गोल्ड मेडल जीते।

ऐसें घर से दूर तैयारी कर रही वंदना को पिता के निधन की खबर मिली। वंदना के सामने पिता के अंतिम दर्शन की इच्छा के साथ साथ पिता के सपने को साकार करने की अलख जल रही थी। इस मौके पर टूट चुकी वंदना को भाई पंकज और मां सोरण देवी ने संभाला।

यह भी पढ़ें 👉  सड़कें बंद हैं तो हेली सेवा के जरिए अपनों तक पहुंच रहे हैं लोग,तीन दिन में हुई रिकॉर्ड बुकिंग

मां सोरण देवी ने साफ कहा कि पहले सपने को पूरा करो। पिता का आशीर्वाद हमेशा तुम्हारे साथ है। हालांकि, टोक्यो ओलिंपिक में वंदना पदक तो नहीं जीत सकीं लेकिन अपने खेल से सबका दिल जरूर जीत लिया। साथ ही हैट्रिक गोल लगाकर इतिहास रच वंदना ने अपने पिता को श्रद्धांजलि दी।

यह भी पढ़ें: टैक्सी से लेकर ई-रिक्शा तक के चालकों को प्रतिमाह दो-दो हजार रुपए देगी उत्तराखंड सरकार

यह भी पढ़ें: नैनीताल SSP के ऑफिस में तैनात सिपाही ने की आत्महत्या की कोशिश, पत्नी ने बचाया

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top