Nainital-Haldwani News

कॉर्बेट पार्क में अतिक्रमण मामले में तीन IFS अधिकारियों के खिलाफ विजिलेंस को मिले सबूत


Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: उत्तराखंड सरकार एक्शन मोड पर है। भ्रष्टाचार के खिलाफ लगातार बड़े एक्शन लिए जा रहे हैं। ताजा अपेडट के अनुसार 3 आईएफएस अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में है। विजिलेंस को रामनगर में कॉर्बेट नेशनल पार्क में अतिक्रमण और अवैध निर्माण मामले में आईएफएस किशन चंद, राजीव भरतरी और जेएस सुहाग तीनों अफसरों के खिलाफ कई सबूत मिले हैं। विजिलेंस की ओर से इनके विरुद्ध कार्रवाई के लिए फाइल तैयार कर शासन में भेज दी है। सरकार से अनुमति मिलने के बाद तीनों अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज होगा। आगे पढ़ें…

विजिलेंस निदेशक अमित सिन्हा ने कहा कि तीनों अधिकारियों के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिले हैं। इन सबूतों से साफ होता है कि गड़बड़ी में अफसरों की भूमिका संदिग्ध है। आईएएस अफसर रामविलास यादव की गिरफ्तारी के बाद अब धामी सरकार लगातार एक्शन ले रही है। आगे पढ़ें…

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: हल्दुचौड़ की आयुषी पांडे ने भाषण प्रतियोगिता में मारी बाजी, प्रदेश में पाया पहला स्थान

रामनगर नेशनल पार्क में अतिक्रमण यह मामला साल 2018-19 में सामने आया था। विजिलेंस निदेशक अमित सिन्हा ने इस मामले में बताया कि कॉर्बेट नेशनल पार्क में अतिक्रमण और गैरकानूनी ढंग से निर्माण को लेकर ओपन जांच किशन चंद सहित तीन आईएफएस अफसरों के खिलाफ विजिलेंस को बीते समय दी गई थी। अब जांच पूरी होने के बाद विजिलेंस ने रिपोर्ट शासन को भेज दी है। अब शासन से अनुमति मिलने के बाद मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

Join-WhatsApp-Group
To Top