Nainital-Haldwani News

अब 11 किमी घूम कर नहीं जाना पड़ेगा भवाली, खुल गया अल्मोड़ा-ज्योलिकोट मार्ग


अब 11 किमी घूम कर नहीं जाना होगा भवाली, पांचवे दिन खुल गया अल्मोड़ा-ज्योलिकोट मार्ग

नैनीताल: बीते चार दिनों से यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि भुस्खलन होने से वीरभट्टी पुल के पास सड़क पर मलबा आ गया था। जिस कारण आवाजाही पूरी तरह ठप थी। मगर कड़ी मेहनत के बाद पांचवे दिन मार्ग को खोल दिया गया है।

Ad

बारिश में पहाड़ी रास्ते भूस्खलन के लिहाज से खासा संवेदनशील रहते ही हैं। शुक्रवार को भी इस तरह का मामला देखने को मिला। बलियानाला से सटी पहाड़ी को रास्ता चौड़ा करने हेतु काटने का काम चल रहा है। इसी कारण पहाड़ी से मलबा गिरकर वीरभट्टी पुल के पास आ गया।

यह भी पढ़ें 👉  पार्टी बदली, चेहरे वही...नैनीताल में फिर आमने सामने होंगे संजीव आर्य और सरिता आर्य

गनीमत रही कि पुल को क्रॉस कर रही बस के चालक ने सूझबूझ दिखाकर बस पीछे कर ली वरना बड़ा हादसा हो सकता था। अब मलबा आया तो उक्त मार्ग आवाजाही के लिए बंद हो गया। तभी से लेकर अबतक खासकर भवाली जाने वाले यात्रियों को बड़ी परेशानी झेलनी पड़ी।

यह भी पढ़ें: रानीबाग पुल से भारी वाहनों की आवाजाही बंद,डायवर्जन ने निकाले यात्रियों के पसीने

यह भी पढ़ें: आमा-बूबू को जरूर बताना, कोई परेशानी हो तो 14567 नंबर पर कॉल करना

पुल बंद हुआ तो वाहनों को 11 किमी की अधिक दूरी तय कर वाया नैनीताल अपने गंतव्य को जाना पड़ रहा था। इसी वजह से नैनीताल की ट्रैफिक व्यवस्था भी बिगड़ रही थी। हालांकि विभाग के अधिकारियों ने दावा किया था कि दो दिन में रास्ता चालू हो जाएगा मगर चार दिन में ये नहीं हो सका।

यह भी पढ़ें 👉  पहाड़ों की रानी मसूरी में हुई सीजन की दूसरी बर्फबारी...वीकेंड पर लुत्फ उठाने पहुंचे सैलानी

मगर अब रास्ता खुल गया है। एनएच के अवर अभियंता दीपक तिवारी के मुताबिक पहाड़ी के ऊपरी हिस्से से लगातार मलबा खिसकने के कारण साफ सफाई में दिक्कतें आई थीं, अब मंगलवार से मार्ग को खोल दिया गया है। लाजमी है कि यात्रियों को अब 20 से 40 रुपए का अधिक किराया भी नहीं देना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें 👉  गर्व की बात है, देवभूमि की प्रीति धनाई ने इंजीनियरिंग कॉलेज में टॉप कर जीता गोल्ड मेडल

यह भी पढ़ें: सोच हिंदी लेकिन पढ़ाई अंग्रेजी में… स्कूल के खिलाफ धरने पर बैठी रामनगर GGIC की छात्राएं

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान से लौटे दून के नितेश, तालिबानियों को 45 लाख रुपए देकर बची जान

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में जुड़ेंगे रोजगार के ये विषय, 12वीं पास करते ही छात्र बन सकेंगे आत्मनिर्भर

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: महिला को जबड़े से खींच कर ले गया गुलदार,ननद ने बिना डरे ऐसे बचाई भाभी की जान

To Top