Uttarakhand News

उत्तराखंड:बिना कोविड रिपोर्ट भी हो सकेंगे अस्पतालों में भर्ती,हर राज्य के मरीजों का होगा इलाज


देहरादून: कोरोना के मामले भले ही कुछ हद तक कम हुए हैं। भले ही रिकवरी रेट अच्छा हो रहा है। लेकिन शासन प्रशासन अब भी सक्रिय नजर आ रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये महामारी कितनी खतरनाक है, इसका अंदाजा हर किसी को है। इसी बात को लेकर अब उत्तराखंड सरकार ने एक और फैसला लिया है। सचिव स्वास्थ्य़ ने आदेश जारी करते हुए यह साफ कर दिया है कि अब कोरोना के लक्षण वाले मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने के लिए कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं होगी।

इस वक्त प्रदेश में कोरोना वायरस ने खूब हड़कंप मचाया हुआ है। कई लोग टेस्ट कराने के बाद प़जिटिव पाए जा रहे हैं। जबकि कई लोग लक्षण शुरू होते ही उपचार कराने के लिए तत्पर हैं। ऐसे में जानकारी के अनुसार अभी तक कोरोना अस्पतालों या हेल्थ केयर सेंटरों में भर्ती होने के लिए कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट मांगी जा रही थी। जिस कारण कई लक्षण वाले मरीज इलाज से वंचित रह जा रहे थे। मगर अब सरकार ने यह भी खत्म कर दिया है। इस फैसले को काफी अच्छा फैसला माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज का बड़ा बयान,कुमाऊं में शुरू होंगे तीन ऑक्सीजन प्लांट

यह भी पढ़ें: फिर खस्ता हुई परिवहन निगम की हालत, डिपो के पास नहीं डीजल तक के रुपए

यह भी पढ़ें: पूर्व सीएम त्रिवेंद्र बोले कोरोना को भी जीने का अधिकार,सोशल मीडिया पर आई मीम की बाढ

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पुलिस को सलाम,प्लाज्मा देकर SSP दलीप सिंह कुंवर ने बचाई दो जिंदगी

दरअसल शुक्रवार को इस संबंध में सचिव स्वास्थ्य डॉ.पंकज कुमार पांडेय ने आदेश जारी कर दिए। आदेशों के मुताबिक कोरोना लक्षण वाले मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने के लिए कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं होगी। इसके साथ ही दूसरे शहरों से आए मरीजों या किसी भी रोगी को स्वास्थ्य सेवाएं देने से मना नहीं किया जाएगा। ना ही मरीज से कोई पहचान पत्र मांगा जाएगा। सख्त निर्देश दिए गए हैं कि अस्पताल में प्रवेश मरीज की जरूरत के आधार पर होना चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड:CAU ने तीन खिलाड़ियों को सीनियर ट्रायल टूर्नामेंट से बाहर किया, नहीं थे पूरे दस्तावेज

सचिव स्वास्थ्य की ओर से जारी आदेेश के मुताबिक केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश और सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का पालन करते हुए प्रदेश में कोरोना इलाज के लिए त्रिस्तरीय प्रणाली पहले से सुचारू रूप से चल रही है। बता दें कि इस प्रणाली के तहत कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए डेडीकेटिड कोविड अस्पताल (डीसीएच), मध्यम मरीजों के लिए डेडीकेटिड कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) और कम संक्रमित मरीजों के कोविड केयर सेंटर (सीसीसी) स्थापित किए गए हैं। सभी अस्पतालों को कोविड मरीजों को लेकर सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में 10वीं पास युवाओं की भी लगेगी पोस्ट ऑफिस में नौकरी, तुरंत करें आवेदन

यह भी पढ़ें: अब यहां नहीं लगेगी वैक्सीन, टीका लगवाने से पहले डालें हल्द्वानी के नए केंद्रों पर नज़र

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: RTPCR टेस्ट के लिए वसूले अधिक रुपए,एक और लैब के खिलाफ केस दर्ज

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी में बेवजह घूमने वालों को सबक सिखाएगी Curfew एक्सप्रेस

यह भी पढ़ें: युवाओं के लिए खुशखबरी, SBI ने निकाली हज़ारों पदों पर बंपर भर्तियां, फौरन करें आवेदन

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top