Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी:सवा लाख राशन कार्डों की जांच शुरू,फर्जीवाड़ा पकड़े जाने पर सजा मिलना तय


हल्द्वानी: सरकारी खाद्यान्न को लेकर किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। खासकर फर्जी तरह से राशन ले रहे उपभोक्ताओं पर तो खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने लगाम लगाने की पूरी तैयारी कर ली है। विकासखंड हल्द्वानी के सवा लाख राशन कार्डों की जांच दोबारा शुरू कर दी गई है। पहले चरण में ब्लॉक के पांच वार्ड और पांच गांवों के कार्डों की जांच शुरू हो गई है।

दरअसल होता यह है कि कई उपभोक्ता अपनी आय कम बताकर सरकारी राशन का मज़ा उठाते रहते हैं। मतलब पांच लाख से ऊपर की आय होने के बावजूद कुछ लोग राशन कार्ड के फायदे ले रहे हैं। ऐसे में पहले भी कई बार फर्जीवाड़ा पकड़ा जा चुका है। इस बार दोबारा हल्द्वानी में जांच शुरू हो गई है। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की मानें तो ग्राम विकास अधिकारियों, पटवारियों की टीम प्रत्येक वार्डों में जाकर राशन कार्डों का भौतिक सत्यापन कर रही है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से पहाड़ जाने में लगेगा अब ज्यादा वक्त,ज्योलीकोट होते हुए पूरी करनी पड़ेगी यात्रा

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में गजब हो गया,24 किलोमीटर उल्टी दौड़ी जनशताब्दी एक्सप्रेस-Video

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस:आज पीएम मोदी ले सकते हैं बड़ा फैसला, मुख्यमंत्रियों को दिया होम वर्क

अब चूंकि फर्जीवाड़ा तो फर्जीवाड़ा है, इसलिए सज़ा भी बड़ी है। झोल पकड़े जाने पर राशन कार्ड तो निरस्त होगा ही। इसके साथ ही कार्ड धारक पर केस भी हो सकता है। आपको बता दें कि पहले भी जांच में कई एक मामले सामने आए हैं। खाद्य आपूर्ति विभाग ने ऐसे 500 लोगों को चिह्नित कर नोटिस भेजा था। बीते साल में विभाग ने ऐसे एक हजार राशन कार्ड निरस्त किए थे।

यह भी पढ़ें 👉  प्रकाश ट्रेडर्स हल्द्वानी: इलेक्ट्रिक स्कूटी में मिल रही है 50 हजार से ज्यादा की सब्सिडी

राशन कार्ड में आय प्रमाण पत्र की अनिवार्यता 2014-15 से लागू की गई थी। तभी से इस तरह के केस सामने आए हैं। लिहाजा तहसील कार्यालयों में जिनकी पकड़ तह तक है, उन्होंने यह फर्जी काम कर के काफी रुपए कमाए।

बहरहाल आपको बता दें कि 2014-15 से पहले राशन कार्ड के लिए किसी आय प्रमाण पत्र की ज़रूरत नहीं थी। अब क्योंकि हल्द्वानी नगर निगम का क्षेत्र कम होने के साथ अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र को भी खुद में समेटे हुए था। ऐसे में ग्राम प्रधान ही कार्ड बनवाते थे। तब ग्राम प्रधान अपने मन मुताबिक राशन कार्ड बना देते थे, इसलिए आय प्रमाण पत्र ज़रूरी किया गया। मगर अब इसमें भी झोल सामने आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  जरूरी सूचना: मुखानी समेत हल्द्वानी के इन इलाकों में पूरे महीने होगी बिजली कटौती

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड CM तीरथ सिंह रावत का विवादित बयान, महिलाओं का फटी जींस पहनना अच्छे संस्कार नहीं

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के पहाड़ी जिलो में रहने वाले हर 5वें शख्स को है अनिद्रा नामक बीमारी,ये हैं लक्ष्यण

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहा है चोरी का ग्राफ, एक रात में दो दुकानों से लाखों का माल साफ

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: नया स्टॉप बना यात्रियों के लिए सिर्द, दो घंटे देरी से चल रही हैं बसें

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top