Pauri News

उत्तराखंड: जंगल में लगी आग, 18 साल के सतबीर ने बचाई 32 ज़िंदगियां


कोटद्वार: हौसले बुलंद हों तो मौत को भी चकमा दिया जा सकता है। प्रदेश के एक इलाके में 18 साल के लड़के ने हिम्मत की ऐसी मिसाल दी है कि पूरा उत्तराखंड दाद दे रहा है। ग्राम सिमल्या के सतबीर ने अपनी दो बहनों समेत 30 बकरियों की जान बचाई। आग की लपटों से लड़कर आया सतबीर अभी घायल है और अस्पताल में भर्ती है।

उत्तराखंड के जंगलों में धू-धू कर आग लगी हुई है। इन्हीं आग लगी की घटनाओं से शासन-प्रशासन की नींद उड़ गई है। जानवरों, ग्रामीणों को भारी नुकसान हो रहा है। हालांकि हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं ताकि स्थिति पर नियंत्रण किया जा सके। इसी बीत पौड़ी गढ़वाल के इलाके से एक बड़ी खबर सामने आई है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:शासन का बड़ा फैसला, 24 IAS और 4 PCS अधिकारियों के किए तबादले

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के बढ़ते मामले बढ़ा रहे हैं चिंता,उत्तराखंड में फिर सामने आए रिकॉर्ड केस

रविवार की शाम को जिले के द्वारीखाल ब्लॉक में सिमल्या गांव निवासी 18 वर्षीय सतबीर उस वक्त अपनी 35 बकरियों के जंगल में ही था जब आसपास में आग लगी हुई थी। जानकारी के अनुसार सतबीर के साथ उसकी चचेरी बहन किरन (11) और रिश्ते की बहन सिमरन (13) भी थी। अस्पताल में इलाज करा रहे सतबीर ने अपनी आपबीती सुनाते हुए कहा कि आग उन लोगों से काफी दूर थी। इसी कारण से वे लोग बातों में खोए हुए थे। मगर थोड़ी देर बाद अचानक से तेज़ हवा चली तो वे लोग आग की लपटों के बीच घिर गए।

यह भी पढ़ें 👉  जरूरी सूचना: मुखानी समेत हल्द्वानी के इन इलाकों में पूरे महीने होगी बिजली कटौती

आग ने देखते ही देखते इतना भयंकर रूप धारण कर लिया कि तीनों के तीनों डर गए। दोनों बगनें रोने लगी मगर सतबीर ने हिम्मत नहीं हारी। उसने शांत दिमाग से काम लिया। सतबीर ने पेड़ों की हरी टहनियां तोड़ कर आग को बुझाना शुरू किया। जिस कारण बीच से निकलने का रास्ता शुरू कर दिया। पहले उसने अपनी बहनों को सुरक्षित घर पहुंचाया। जिसके बाद वह बकरियों को लेने गया।

यह भी पढ़ें 👉  GGIC समेत हल्द्वानी के 23 स्कूलों में होगी कोरोना जांच, डीएम बोले बच्चों की सुरक्षा जरूरी

यह भी पढ़ें: सतपाल महाराज ने जनता के सामने रखा विकास प्लान, अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का करेंगे निर्माण

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: जंगलों की आग बनी यात्रियों की परेशानी का कारण, कैंसल हुई दिल्ली की फ्लाइट

हालांकि इस दौरान पांच बकरियों की जान चली गई। लेकिन आग में झुलसते हुए भी सतबीर 30 बकरियों को बचा कर ले आया। आग की लपटों में उसके कपड़े जलने लगे तो उसने भाग कर तीन सौ मीटर दूर स्थित नदी में छलांग मार दी। जिसके बाद बहनों ने घर पर जानकारी दी। बाद में ग्रामीणों की मदद से सतबीर को एंबुलेंस से कोटद्वार स्थित बेस चिकित्सालय ले जाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  शराब पीने से रोका तो उत्तराखंड पुलिसकर्मियों को पीटने लगे युवक, वर्दी भी फाड़ डाली

चिकित्सकों से मिली जानकारी के मुताबिक सतबीर की हालत अब पहले से बेहतर है। 11वीं कक्षा के छात्र सतबीर ने कहा कि यह उसके पिता और भगवान का आशीर्वाद है। सतबीर के पिता चंद्रमोहन कहते हैं कि उन्हें अपने बेटे के साहस पर गर्व है।

यह भी पढ़ें: नैनीताल घूमने आ रहे दोस्तों की खुशियां मातम में बदली, रास्ते में एक युवक की मौत

यह भी पढ़ें: अरे गज़ब, मां बेटी को ढेरों शुभकामनाएं, एक साथ दोनों की लगी सरकारी नौकरी

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top