Dehradun News

बिना कोरोना रिपोर्ट व पंजीकरण के यात्री भरकर उत्तराखंड में आ गई निजी बस, विभाग ने सिखाया सबक


बिना कोरोना रिपोर्ट व पंजीकरण के यात्री भरकर उत्तराखंड में आ गई निजी बस, विभाग ने सिखाया सबक

देहरादून: प्रदेश में कोरोना की रफ्तार कम ज़रूर हुई है मगर अब भी संक्रमण पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। इसी कारण प्रदेश में प्रवेश पाने के लिए सरकार ने अब भी कोविड नेगेटिव रिपोर्ट की अनिवार्यता जारी रखी है। मगर इसी बीच एक निजी बस को हरिद्वार रोड पर पकड़ा गया जिसमें बैठी 74 सवारियों के पास ना तो पंजीकरण पत्र था और ना ही कोरोना जांच रिपोर्ट थी।

उत्तराखंड में प्रवेश पाने के लिए कोरोना जांच रिपोर्ट व स्मार्ट सिटी पोर्टल पर पंजीयन की अनिवार्यता है। लेकिन इन नियमों की अवहेलना करते हुए बाहरी राज्यों से डग्गामार निजी बसें यात्रियों को बेधड़क यहां पहुंचा रहीं हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बिछड़ों को अपनों से मिला रही उत्तराखंड पुलिस, परिवारों को खुशियां बांट रहा है ऑपरेशन स्माइल

यह भी पढ़ें: वक्त कम है और काम अधिक है,टीम वर्क पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को भरोसा, नया एक्शन

यह भी पढ़ें: नैनीताल में बाइक और स्कूटी की एंट्री बंद, 10 किलोमीटर पहले रोका जाएगा

दरअसल सोमवार को एक निजी बस दिल्ली से उत्तर प्रदेश की सीमा से होकर हरिद्वार होते हुए देहरादून पहुंची थी। पहले तो बस में 42 सीटों के सापेक्ष 74 यात्री बैठी हुईं थी। ऊपर से यात्रियों के पास न तो कोरोना की रिपोर्ट थी और न ही उनका प्रदेश में आने का पंजीयन था।

ऐसे में परिवहन विभाग की प्रवर्तन टीम द्वारा यात्रियों समेत बस को आशारोड़ी चेकपोस्ट ले जाया गया। जहां यात्रियों का एंटीजन टेस्ट एवं पंजीयन कराया गया। इसके बाद उन्हें जाने दिया गया। लाजमी है कि इस तरह से बसों के आने से प्रदेश में कोरोना के फैलने का खतरा बढ़ सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा से हल्द्वानी यात्रा के लिए इन मार्गों को खोला गया, हेल्पलाइन नंबर भी जारी

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी घूमने पहुंचा सैलानी काठगोदाम पुल के नीचे गौला नदी में डूबा

यह भी पढ़ें: सीएम धामी ने समझी युवाओं की परेशानी,बेरोजगारों को आयु सीमा में एक साल की छूट

आरटीओ प्रवर्तन संदीप सैनी के मुताबिक उत्तर प्रदेश द्वारा अंतरराज्यीय बस परिवहन पर रोक लगाने के बावजूद भी निजी बसें हिना संकोच संचालित हो रहीं हैं। उत्तर प्रदेश रोडवेज बसों को चलने नहीं दे रहा और निजी बसें उत्तर प्रदेश की सीमा में होकर उत्तराखंड आ रही हैं।

यह भी पढ़ें 👉  फिर वायरल हुई पवनदीप राजन और अरुणिता की जोड़ी, नए गाने को हर घंटे मिल रहे एक लाख व्यूज

लिहाजा दिल्ली, आगरा, जयपुर, गोरखपुर समेत लखीमपुर तक से निजी बसें यहां आने की शिकायतें मिल रहीं। बीते हफ्ते भी चार बस सीज की गईं थी। प्रवर्तन टीमों ने यातायात व परिवहन नियम तोड़ने वाले 36 वाहनों का चालान भी किया।

यह भी पढ़ें: भाजपा के विधायक आप के संपर्क में,2022 में कांग्रेस चुनावी दौड़ में शामिल नहीं:प्रदेश प्रभारी दिनेश मोहनिया

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में एक हफ्ते बढ़ा कोरोना Curfew, सभी जिलाधिकारियों को मिली विशेष पावर

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top