Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी:बस यात्रियों को राहत,नहीं बढ़ाया गया रोडवेज का किराया


हल्द्वानी:कोरोना वायरस के प्रकोप के कम होने के बाद उत्तराखंड में दूसरे राज्यों के लिए बसों का संचालन शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश से अनुमति मिलने के बाद संभव हो पाया है। यह यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। दो महीने बाद रोडवेज ने सभी रूटों पर बसों का संचालन शुरू कर दिया है। हल्द्वानी बस स्टेशन से दिल्ली, आगरा, लखनऊ, जयपुर, चंड़ीगढ़ व जलंधर समेत कई रूटों पर बसों का संचालन होता है। बसों की संख्या को यात्रियों की मांग को देखते हुए लगातार बढ़ाया जा रहा है।

देहरादून से दिल्ली के लिए हर 30 मिनट में बस चलाई जा रही है। सबसे राहत की बात है कि बसों का किराया रोडवेज ने नहीं बढ़ाया है। उत्तर प्रदेश से अनुमति मिलने से दिल्ली के लिए बसें करनाल होते हुए भेजी जा रही थी। यात्रियों को अधिक दूरी तय करनी पड़ रही थी और किराया भी अधिक था। उत्तराखंड रोडवेज सभी रूटों पर किराया पहले की समान ही रखा है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में अब घर-घर डॉक्टर करेंगे होम आइसोलेशन में रहे मरीजों की जांच

यह भी पढ़ें: नेगेटिव रिपोर्ट,पंजीकरण व होटल बुकिंग होना अनिवार्य, नहीं तो नैनीताल में एंट्री बैन, आदेश देखें

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री आवास में ही रहेंगे सीएम धामी, कहते हैं यहां जो आया वो पूरा नहीं कर पाया कार्यकाल

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी टी-20 कप में दीक्षांशु नेगी ने जड़ा ताबड़तोड़ शतक, जड़ डाले 15 छक्के- वीडियो देखें

यह भी पढ़ें: देहरादून:Curfew से छूट मिलते ही शुरू हो गया गंदा काम,दिल्ली से पहुंचे लड़के-लड़कियां गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: आम आदमी को लूटने चले थे दो इंजीनियर,एक लाख रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े गए

यह भी पढ़ें: कैंपटी फॉल की वीडियो वायरल होने के बाद पर्यटकों पर कसा गया शिकंजा,केवल 50 लोगों को मिलेगी एंट्री,पढ़ें

यह भी पढ़ें: राशन विक्रेताओं का दोगुना हुआ लाभांश, कोरोना से मौत पर 10 लाख की मदद का फैसला

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में होगी महानगरों की तरह पुलिस पेट्रोलिंग, पूरे शहर में घूमेगी डायल 112 स्कॉर्पियो

उत्तराखंड में बसों का संचालन ना होने से रोडवेज लगातार दूसरे साल करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। वहीं यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। बस के ना होने से उन्हें प्राइवेट टैक्सी में यात्रा करने पर मजबूर होना पड़ा और अधिक रुपए देने पड़े। इसके अलावा कुमाऊं से गढ़वाल के लिए भी अधिकतर बसें नहीं चल पाई क्योंकि उत्तर प्रदेश की सीमा बीच में पड़ रही थी। फिलहाल ऑफलाइन टिकट यात्रियों को मिल रहा है, विभाग जल्द ऑनलाइन टिकट बुक करने की सेवा शुरू करने पर भी विचार कर रहा है।

To Top