Champawat News

उत्तराखंड में ज़िंदा है इंसानियत,मां ने जन्म देकर बच्चे को अस्पताल में छोड़ा,डॉक्टर ने लिया गोद


लोहाघाट: इंसानियत को शर्मसार करने की कई एक वारदातें सामने आती रहती हैं। मगर इस बार देवभूमि से इंसानियत को ज़िंदा कर देने वाला एक मामला सामने आया है। चंपावत के एक हॉस्पिटल में पेट दर्द की शिकायत लेकर पहुंची विधवा महिला ने उपचार के दौरान बच्चे को जन्म दिया।

समाज से डर के चलते विधवा महिला ने बच्चे को अस्तपाल में ही छोड़ दिया। लेकिन अस्पताल के चिकित्सक ने बड़ा दिल दिखाकर बच्चे को गोद लेने का फैसला किया। लिहाजा मामला पूरे क्षेत्र में चर्चा का मुख्य केंद्र बना हुआ है। कुछ संगठनों ने अस्पताल पहुंचकर विरोध भी जताया।

यह भी पढ़ें: बिन्दुखत्ता की ‘कंचन परिहार’ का कमाल, महिला वनडे टीम में बनी उपकप्तान

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी-बरेली रोड पर भीषण सड़क हादसा, एक ही परिवार के चार लोगों की मौत

चंपावत जिले के बाराकोट विकासखंड के एक गांव की महिला के पेट में दर्द हुआ तो वह हॉस्पिटल जा पहुंची। जहां इलाज के दौरान उसने एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया। बता दें कि 35 वर्षीय महिला विधवा है। करीब तीन साल पहले उसके पति की मृत्यु हो गई थी। विधवा महिला द्वारा बच्चे को जन्म देने की सूचना आग की तरह फैल गई।

यह भी पढ़ें 👉  गुरू मां डेंटल क्लिनिक दे रहा है नौकरी का मौका, इच्छुक तुरंत करें अप्लाई

लोक लाज का डर रहा कि महिला ने बच्चे को जन्म देने के बाद ही अस्पताल में छोड़ दिया और वह खुद चले गई। इसके बाद हॉस्पिटल के एक डॉक्टर ने जो किया वह वाकई काबिले तारीफ है। डॉक्टर ने नवजात को बिना किसी प्रक्रिया अपनाए गोद ले लिया।

यह भी पढ़ें 👉  रामनगर ढिकुली गांव में बही बच्ची का शव तीन दिन बाद कोसी नदी में मिली

यह भी पढ़ें: पिथौरागढ़ की श्वेता वर्मा का टीम इंडिया में हुआ चयन,पापा के सपने को मां के संर्घष ने किया पूरा

यह भी पढ़ें: नैनीताल को मिली करोड़ों की सौगात,पार्किंग की छत पर बनेगा पहाड़ी फूड कोर्ट

विधवा महिला द्वारा बच्चे को जन्म देने और डॉक्टर द्वारा बिना किसी कानूनी प्रक्रिया को अपनाए बच्चे को गोद लेने की सूचना आग की तरह फैल गई। इतने में ही कई एक संगठन अस्पताल पहुंचकर विरोध करने लगे। इतना ही नहीं एसडीएम को ज्ञापन भी सौंपा गया। जिसमें बच्चे को कानूनी प्रक्रिया से गोद लेने की मां गी कई है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से पिथौरागढ़ के लिए रोडवेज बस सेवा शुरू,पहले से कम हो गई है दूरी

प्रभारी सीएमएस ने डा. जुनैद कमर ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि महिला अस्पताल में बच्चे का छोड़ गई। मामले की सूचना एसडीएम, सीएमओ और थाने को दी गई। उन्होंने बताया कि नवजात पूरी तरह स्वस्थ्य है और उसे अस्पताल में ही रखा गया है। बता दें कि महिला के पांच बच्चे हैं।

यह भी पढ़ें: ढेर सारी बधाई….नेशनल मार्शल आर्ट्स चैंपियनशिप में मालकोटी गांव के बेटे ने जीता सिल्वर मेडल

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड रोडवेज बस ने बाइक सवार दंपत्ति को मारी टक्कर,महिला ने मौके पर तोड़ा दम

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top